चल पड़ी है गाड़ी आजकल  उनके प्यार की

चल पड़ी है गाड़ी आजकल उनके प्यार की

आज वैवाहिक जीवन की 23वीं वर्षगांठ पर पहले पहल प्यार में गुजरे प्रेम पातियों में से निकली एक पाती प्रस्तुत है-  

चल पड़ी है गाड़ी आजकल
उनके प्यार की
सुना है कन्हैया बना चितचोर
रहती उन्हें हर घड़ी अब
उनके इंतजार की

रोम-रोम पुलकित हो उठते
जब भी बजती घंटी
झनक उठते दिलतार
डूबे मन प्यार में सोच-सोच कर
आतुर धड़कने बढ़ती बार-बार
यूं कब दिन बीत जाता एक दूजे में
लगता हैं आई घड़ी बहार की
सुना है कन्हैया बना चितचोर
रहती उन्हें हर घड़ी अब
उनके इन्तजार की

कब परवाह प्यार में दुनिया की
जब चढ़ जाता जुनूं प्यार का
मिलकर ही सुकूं मिलता तब दिल को
बीते नहीं बीतता समय इंतजार का
छलक उठता सागर आंखों में
यदि गूंजा शब्द कभी इंकार का
सुना है कन्हैया बना चितचोर
रहती उन्हें हर घड़ी अब
उनके इन्तजार की
           .........कविता रावत
 उखड़े हुए पेड़ पर हर कोई कुल्हाड़ी मारता है

उखड़े हुए पेड़ पर हर कोई कुल्हाड़ी मारता है

मक्खन की हंड़िया सिर पर रखकर धूप में नहीं चलना चाहिए
बारूद के ढ़ेर पर बैठकर आग का खेल नहीं खेलना चाहिए

छोटा से पैबंद न लगाने पर बहुत बड़ा छिद्र बन जाता है
धारदार औजारोंं से खेलना खतरे से खाली नहीं होता है

काँटों पर चलने वाले नंगे पांव नहीं चला करते हैं
चूहों के कान होते हैं जो दीवारों में छिपे रहते हैं

नमक बिखरा तो पूरा बटोरा नहीं जा सकता है
उखड़े हुए पेड़ पर हर कोई कुल्हाड़ी मारता है
                                 .....कविता रावत 
यौवन गुलाबी फूलों का सेहरा तो बुढ़ापा कांटों का ताज होता है

यौवन गुलाबी फूलों का सेहरा तो बुढ़ापा कांटों का ताज होता है

लम्बी उम्र सब चाहते हैं पर बूढ़ा होना कोई नहीं चाहता है
यौवन गुलाबी फूलों का सेहरा तो बुढ़ापा कांटों का ताज होता है

छोटी उम्र या कोरे कागज पर कोई भी छाप छोड़ी जा सकती है
युवा के पास ज्ञान तो वृद्ध के पास सामर्थ्य की कमी रहती है

बूढ़ा भालू धीमें-धीमें करके ही नाचना सीख पाता है
चालीस पार आदमी मूर्ख अथवा हकीम बन जाता है

बूढ़ी लोमड़ी को किसी शिक्षक की जरूरत नहीं होती है
सीखने-सिखाने की कोई उम्र निर्धारित नहीं की जाती है

चिड़िया की जवानी से गरुड़ पक्षी का बुढ़ापा भला
युवा की दासी बनने से वृद्ध की प्रेयसी बनना भला
आओ  मिलकर   दीप  जलाएं

आओ मिलकर दीप जलाएं

आओ मिलकर दीप जलाएं
अँधेरा धरा से दूर भगाएं
रह न जाय अँधेरा कहीं घर का कोई सूना कोना
सदा ऐसा कोई दीप जलाते रहना
हर घर -आँगन में रंगोली सजाएं
आओ मिलकर दीप जलाएं.

हर दिन जीते अपनों के लिए
कभी दूसरों के लिए भी जी कर देखें
हर दिन अपने लिए रोशनी तलाशें
एक दिन दीप सा रोशन होकर देखें
दीप सा हरदम उजियारा फैलाएं
आओ मिलकर दीप जलाएं.

भेदभाव, ऊँच -नीच की दीवार ढहाकर
आपस में सब मिलजुल पग बढायें
पर सेवा का संकल्प लेकर मन में
जहाँ से नफरत की दीवार ढहायें
सर्वहित संकल्प का थाल सजाएँ
आओ मिलकर दीप जलाएं
अँधेरा धरा से दूर भगाएं.


Kavita Rawat
दीपावली का आरोग्य चिन्तन

दीपावली का आरोग्य चिन्तन

दीपावली जन-मन की प्रसन्नता, हर्षोल्लास एवं श्री-सम्पन्नता की कामना के महापर्व के रूप में मनाया जाता है। कार्तिक की अमावस्या की काली रात्रि को जब घर-घर दीपकों की पंक्ति जल उठती है तो वह पूर्णिमा से अधिक उजियारी होकर 'तमसो मा ज्योतिर्गमय' को साकार कर बैठती है। यह पर्व एक दिवसीय न होकर कार्तिक कृष्णा त्रयोदशी से शुक्ल पक्ष की दूज तक बड़े हर्षोल्लास से सम्पन्न होता है। इसके साथ ही दीपावली को कई महान तथा पूज्य महापुरूषों के जीवन से सम्बद्ध प्रेरणाप्रद घटनाओं के स्मृति पर्व के रूप में भी याद किया जाता है। कहा जाता है कि इसी दिन महाराज युधिष्ठिर का राजसूय-यज्ञ भी सम्पन्न हुआ था। राजा विक्रमादित्य भी इसी दिन सिंहासन पर बैठे थे। आर्य समाज के प्रवर्तक स्वामी दयानंद सरस्वती, जैन धर्म के अंतिम तीर्थंकर महावीर स्वामी तथा सर्वोदयी नेता आचार्य विनोबा भावे का स्वर्गारोहरण का भी यही दिवस है। सिक्खों के छठवें गुरु हरगोविन्द जी को भी इसी दिन कारावास से मुक्ति मिली। वेदान्त के विद्वान स्वामी रामतीर्थ का जन्म, ज्ञान प्राप्ति तथा निर्वाण, तीनों इसी दिन हुए थे। 
भारत वर्ष में दीपावली को मनाने का सबसे प्रचलित जनश्रुति भगवान श्रीराम से जुड़ी है। जिसमें माना जाता है कि आदर्श पुरूष श्रीराम जब लंका विजय के बाद माता सीता सहित अयोध्या लौटे तो अयोध्यावासियों ने उनके स्वागत के लिए अपने-अपने घरों की साफ-सफाई कर सजाया और अमावस्या की रात्रि में दीपों की पंक्ति जलाकर उसे पूर्णिमा में बदल दिया। जिससे यह प्रथा दीपों के पर्व के रूप में मनाया जाने लगा। 
दीपावली में साफ-सफाई का विशेष महत्व है। क्योंकि इसका सीधा सम्बन्ध हमारे शरीर को आरोग्य बनाए रखने से जुड़ा होता है। शरीर को सत्कर्म का सबसे पहला साधन माना गया है (शरीरमाद्यं खलु धर्म साधनम्) और यह तभी सम्भव हो सकता है जब हम स्वस्थ रहेंगे। क्योंकि पूर्ण स्वास्थ्य संपदा से बढ़कर होता है। स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन का वास हो सकता है। इसके लिए जरूरी है वर्षा ऋतु समाप्त होने पर घरों में छिपे मच्छरों, खटमलों, पिस्सुओं और अन्य दूसरे विषैले कीट-पतंगों को मार-भगाने का यचोचित उपचार जिससे मलेरिया, टाइफाइड जैसी घातक बीमारियों को फलने-फलने को अवसर न मिले। सभी लोग अपनी सामर्थ्य अनुसार घरों की लिपाई-पुताई, रंग-रोगन कर घर की गन्दगी दूर कर आरोग्य होकर खुशियों की दीप जलायें। 
दीपावली में घर की साफ़-सफाई तो सभी कर लेते हैं लेकिन जरा गंभीर होकर क्यों न हम अपने -अपने आस-पास के वातावरण को भी देख लें, जिसमें हमें आरोग्य रहना है। आरोग्य रहने की पहली शर्त है ताजी हवा और शुद्ध पानी का सेवन। गांवों में ताजी हवा तो मिलती है लेकिन गंदगी के कारण वह दूषित हो जाती है। गांवों में जगह-जगह कूढ़े-करकट के ढेर लगे रहते हैं। कई लोग आज भी आस-पास ही दिशा-पानी के लिए बैठ जाते हैं, जिससे गंदगी फैलती है और मक्खी-मच्छर उत्पन्न हो जाते हैं, जिससे कई रोग उत्पन्न होते हैं। जरा सोचिए, ऐसी हालत में कैसे स्वस्थ होकर खुशी मनाएंगे। गांवों को साफ-सुथरा रखा जाए तो वहाँ के निवासी ताजी हवा का सेवन कर हमेशा स्वस्थ रह सकेंगे। गाँव में पीने के पानी की भी बड़ी समस्या रहती है। कच्चे कुएं का पानी नुकसानदेह तो होता ही है साथ ही पोखर और तालाबों का पानी पीने से भी कई प्रकार की बीमारियां लग जाती है। सारा गांव उन्हीं में नहाता-धोता रहता है और उसी पानी को पीता है, जिससे कई बीमारियां उसे घेर लेती हैं। अब जरा शहर पर नजर दौड़ाइए- यहां न तो ताजी हवा ही मिलती है और न पानी। गाड़ी-मोटर, मिल और कारखानों के कार्बन-डाइआक्साइड उगलते धुएं से दूषित वातावरण स्वास्थ्य के लिए कितना नुकसानदेह है, इससे सभी जानते हुए भी अनभिज्ञ बने रहते हैं। शहर की घनी आबादी के गली-कूंचों से यदि कोई सुबह-सुबह ताजी हवा के लिए निकल पड़े तो साक्षात नरक के दर्शन होना बड़ी बात नहीं हैं। नदियों का पानी हो या तालाबों का जब सारे गांव-शहर भर की गंदगी को समेटे नाले उसमें गिरते हैं तो वह कितना पीने लायक होता है यह किसी से छिपा नहीं। इससे पहले कि वैज्ञानिकों का कहना है कि कुछ समय बाद शहर का अर्थ होगा, मौत का घर’ वाली बात सच हो हम एकजुट होकर समय रहते जागें और स्वस्थ रहने के उपायों पर जोर दें ताकि स्वयं के साथ ही देश की खुशहाली में अपनी भागीदारी निभायें। शक्तिहीन रोगी इंसानों का देश न तो कभी खुशहाल और सुख से रह सकता है और न धरती का स्वर्ग बन सकता है। 
गांव में किसान हो या मजदूर दिन भर काम करके बुरी तरह थक जाते हैं। इस परिश्रम की थकान को मिटाने तथा प्रसन्न रहने के लिए समय-समय धूमधाम से मनाये जाने वाले त्यौहार उनमें नई उमंग-तरंग भरकर ऊर्जा संचरण का काम करते हैं, जो स्वस्थ रहने के लिए बहुत जरूरी हैं। यद्यपि शहर की अनियमित दिनचर्या के बीच जीते लोगों के लिए आरोग्य बने रहने के लिए कई साधन उपलब्ध हैं, जिसमें सबसे मुख्य व्यायाम कहा जा सकता हैं। तथापि शहरी भागमभाग में लगे रहने से उनका ध्यान इस ओर बहुत कम और जरा सी अस्वस्थता के चलते अंग्रेजी दवाएं गटकने में ज्यादा रहता है, जिसका दुष्परिणाम कई तरह की बीमारियों के रूप में आज हम सबके सबके सामने है। वे भूल जाते हैं कि नियमित व्यायाम स्वस्थ तन को आरोग्य बनाए रखने के लिए कितना आवश्यक है। इसके साथ ही उनके लिए यह त्यौहार भी थके-हारे, हैरान-परेशान मन में उमंग-तरंग भर आरोग्य बने रहने के लिए कम नहीं हैं। 

स्वस्थ और सार्थक जीवन हेतु दीपपर्व पर अनेकानेक हार्दिक शुभकामनाएं!

        -कविता रावत


 रावण ने सीताहरण को मुक्ति का मार्ग बनाया

रावण ने सीताहरण को मुक्ति का मार्ग बनाया

मुझे बचपन से ही रामलीला देखने का बड़ा शौक रहा है। आज भी आस-पास जहाँ भी रामलीला का मंचन होता है तो उसे देखने जरूर पहुंचती हूँ। बचपन में तो केवल एक स्वस्थ मनोरंजन के अलावा मन में बहुत कुछ समझ में आता न था, लेकिन आज रामलीला देखते हुए कई पात्रों पर मन विचार मग्न होने लगता है। रामलीला देखकर यह बात सुस्पष्ट है कि इस मृत्युलोक में जिस भी प्राणी ने जन्म लिया है, उसकी मृत्यु सुनिश्चित है, चाहे वह भगवान ही क्यों न हो। एक निश्चित आयु उपरांत सबको इस लोक से गमन करना ही पड़ता है। रावण भी मृत्युलोक का वासी था, इसलिए उसने भी ब्रह्मा जी की तपस्या करके अभय रहने का वरदान तो मांगा ही साथ ही अप्रत्यक्ष रूप से अपनी मुक्ति का कारण भी बता दिया। वह ब्रह्मा जी से वरदान मांगते समय कहता है कि-
हम काहू कर मरहिं न मारे, वानर जात मनुज दोउ वारे
देव, दनुज, किन्नर अरु नागा, सबको हम जीतहिं भय त्यागा 
       यहां विचारणीय है कि रावण ने देव, दानव, किन्नर और नाग को निर्भय होकर जीतने का वरदान मांगा। किन्तु वानर और मनुष्य को कमजोर समझकर उसने छोड़ दिया, इसीलिए भगवान विष्णु मनुष्य रूप में अवतरित हुए। रावण में भले ही बहुत बुराईयां थी, लेकिन उसमें गुण भी कम न थे। वह महापराक्रमी योद्धा, शास्त्रों का प्रखर ज्ञाता और प्रकाण्ड विद्वान पंडित एवं महाज्ञानी होने के साथ ही भविष्यदृष्टा भी था तभी तो जब उसे शूर्पणखा ने बताया कि उसकी नाक कटने का बदला लेने पहुंचे खर-दूषण को राम ने मार डाला है तो वह गंभीर चिंतन में डूब गया-
होता प्रतीत महाबली वह, खर दूषण को जिसने मारा।
सामथ्र्य कहां ऐसे नर की, नारायण ने अवतार धारा।।
गर प्रेम नहीं तो बैर सही, ओ लग्न मजा दिखलाती है।
नारायण में मन लगने से, मुक्ति निश्चय हो जाती है।।
        वह सोचता है कि खर और दूषण तो उसके समान ही बलशाली थे, जिन्हें भगवान के अतिरिक्त कोई नहीं मार सकता था, वे राम द्वारा मारे गए, तो क्या विष्णु भगवान का अवतार हो गया, चिन्ता नहीं, यदि राम एक साधारण मनुष्य हैं तो वह अवश्य मारा जाएगा और यदि विष्णु भगवान का अवतार हैं तो उनके हाथों से मुक्ति प्राप्त होगी-
रख बैर भाव जब हिरण्यकश्यप ने, भव से पाया छुटकारा था।
नृसिंह रूप से जब उसको, नारायण ने संहारा था।।
यह निश्चय होता है मन को, मुक्ति अब मुझसे दूर नहीं।
भव सागर में गोता खाना, हित बाधक है मंजूर नहीं।।
        जब रावण को पूर्ण विश्वास हो चला कि विष्णु भगवान का अवतार हो गया है, तो इसके लिए उसने सीता का हरण करके राम से बैर बढ़ाने और अंत में स्वर्ग प्राप्त करने का संकल्प कर लिया। इसके लिए वह मारीच, जो कपट विद्या का धनी था, उसके पास जाकर कहता है-
सुन मारीच निशाचर भाई, चल मोरे संग जहां रघुराई।
होहू कपट मृग तुम छलकारी, मैं हर लाऊं उनकी नारी।
       चूंकि मारीच का ताड़का वध के बाद जब राम से युद्ध हुआ तो वह राम के पराक्रम के आगे एक पल भी टिक नहीं पाया और उसे युद्धस्थल से भागना पड़ा, वह तभी समझ गया कि राम साधारण मानव नहीं, अवतारी पुरुष हैं, इसलिए वह रावण से कहता है-
सुनहुं दशानन बात हमारी, जिनको कहे तुम नर और नारी।
वे जगदीश चराचर स्वामी, राम रमण पितु अन्तरयामी।।
इसके आगे वह राम से युद्ध करते समय उसके पराक्रम के बारे में बताता है कि- 
वह विश्वमित्र के यज्ञ वाला, दिग्दर्शन सारा मन में है
जिसने सौ योजन पर डाला, वह तीर करारा मन में है।

        मारीच कपट मृग न बनने के लिए रावण से कई बहाने बनाता रहा और बहुत प्रकार से व्यर्थ ही समझाने का प्रयास करता रहा, लेकिन रावण ने जब म्यान से तलवार निकालकर अत्यन्त क्रोधित होकर यमपुरी पहुंचाने का फरमान सुनाया तो वह माया मृग बनने को तैयार हो गया-   
यदि तू नहीं साथ देगा मेरा, तो सारा ज्ञान भुला दूंगा।
सीता को हरने से पहले, यमपुरी तुझको पहुंचा दूंगा।
          क्योंकि रावण ने तो अपनी मुक्ति का मार्ग निश्चित कर लिया था, इसलिए उस पर मारीच की बातों का कोई असर नहीं हुआ। मारीच को भी जब लगा कि रावण मानने वालों में नहीं है तो उसे भी उसकी मुक्ति अपनी मुक्ति स्पष्ट दिखाई देने लगी और वह मायामृग बनने को तैयार हो गया। 
          दशहरा आते ही जगह-जगह सड़क किनारे छोटेे-बड़े रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ के रंग-बिरंगे पुतलों की भरमार लग जाती है। काम, क्रोध, हिंसा, लोभ, मोह और द्वेष के प्रतीक स्वरूप बने इन पुतलों का सार्वजनिक स्थानों पर दहन का प्रचलन आदिकाल से चला आ रहा है। दशहरा को हम सांस्कृतिक पर्व के रूप में धूमधाम से मनाते हैं, लेकिन बिडम्बना देखिए हर वर्ष इन पुतलों के बढ़े हुए कद के साथ ही इनमें विद्यमान बुराईयों का स्वरूप भी उतना ही बढ़ा हुआ दिखाई देने के बावजूद भी हम चुपचाप तमाशबीन बने रहने में ही अपनी भलाई समझते हैं। आज भले ही हमें लगता है कि रावण ने स्त्री हरण जैसा निकृष्ट कार्य किया है, लेकिन यहांँ गंभीर विचार योग्य बात है कि सीता लंका में रावण ही नहीं बल्कि दूसरे असुरों के बीच रहकर भी सुरक्षित रही, जो क्या वर्तमान सभ्य कहलाने वाले समाज में रहकर संभव हो पाता? आज भले ही दशहरा पर्व पर काम, क्रोध, हिंसा, लोभ, मोह और द्वेष के प्रतीक स्वरूप बनाये रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ के बड़े-बड़े पुतलों का दहन करने में हम सभी लोग बहुत आगे हैं, लेकिन आज समाज में छिपे रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ रूपी पुतलों का दहन करने में बहुत पीछे हैं।
विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाओं सहित   ...कविता रावत   



नवरात्र के व्रत और बदलते मौसम के बीच सन्तुलन

नवरात्र के व्रत और बदलते मौसम के बीच सन्तुलन

जब प्रकृति हरी-भरी चुनरी ओढ़े द्वार खड़ी हो, वृक्षों, लताओं, वल्लरियों, पुष्पों एवं मंजरियों की आभा दीप्त हो रही हो, शीतल मंद सुगन्धित बयार बह रही हो, गली-मोहल्ले और चौराहे  माँ की जय-जयकारों के साथ चित्ताकर्षक प्रतिमाओं और झाँकियों से जगमगाते हुए भक्ति रस की गंगा बहा रही हो, ऐसे मनोहारी उत्सवी माहौल में भला कौन ऐसा होगा जो भक्ति और शक्ति साधना में डूबकर माँ जगदम्बे का आशीर्वाद नहीं लेना चाहेगा।
आज नवरात्र सिर्फ साधु-सन्यासियों की शक्ति साधना पर्व ही नहीं अपितु आम लोगों के लिए अपनी मनोकामना, अभिलाषा पूर्ति और समस्याओं के समाधान के लिए देवी साधना कर कुछ विशिष्ट उपलब्धि प्राप्ति का सौभाग्यदायक अवसर समझा जाता है। क्योंकि माँ दुर्गा को विश्व की सृजनात्मक शक्ति के रूप के साथ ही एक ऐसी परमाध्या, ब्रह्ममयी महाशक्ति के रूप में भी माना जाता है जो विश्व चेतना के रूप में सर्वत्र व्याप्त हैं। माना जाता है कि कोई भी साधना शक्ति उपासना के बिना पूर्ण नहीं होती। शक्ति साधना साधक के लिए उतना ही आवश्यक है जितना शरीर के लिए भोजन।नवरात्रि में आम लोग भी अपनी उपवास साधना के माध्यम से इन नौ दिन में माँ का ध्यान, पूजा-पाठ कर उन्हें प्रसन्न कर आशीर्वाद पाते हैं।  हमारे आयुर्वेद चिकित्सा शास्त्रों में उपवास का विस्तृत उल्लेख मिलता है। नवरात्र में इसे शरीर को स्वस्थ रखने के लिए बहुत  लाभदायक बताया गया है।  
आयुर्वेद में उपवास की व्याख्या इस प्रकार की गई है- ‘आहारं पचति शिखी दोषनाहारवर्जितः।‘ अर्थात् जीवनी-शक्ति भोजन को पचाती है। यदि भोजन न ग्रहण किया जाए तो भोजन के पचाने से मुक्त हुई जीवनी-शक्ति शरीर से विकारों को निकालने की प्रक्रिया में लग जाती है। श्री रामचरितमानस में भी कहा गया है- भोजन करिउ तृपिति हित लागी। जिमि सो असन पचवै जठरागी।। 
नवरात्र-व्रत मौसम बदलने के अवसरों पर किए जाते हैं। एक बार जब ऋतु सर्दी से गर्मी की ओर और दूसरी बार तब जब ऋतु गर्मी से सर्दी की ओर बढ़ती है। साधारणतः यह देखा जाता है कि ऋतु परिवर्तन के इन मोड़ों पर अधिकतर लोग सर्दी जुकाम, बुखार, पेचिश, मल, अजीर्ण, चेचक, हैजा, इन्फ्लूएंजा आदि रोगों से पीडि़त हो जाते हैं। ऋतु-परिवर्तन मानव शरीर में छिपे हुए विकारों एवं ग्रंथि-विषों को उभार देता है। अतः उस समय उपवास द्वारा उनको बाहर निकाल देना न केवल अधिक सुविधाजनक होता है, बल्कि आवश्यक और लाभकारी भी। इस प्रकार नवरात्र में किया गया व्रत वर्ष के दूसरे अवसरों पर किए गए साधारण उपवासों से अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। नवरात्र व्रतों के समय साधारणतया संयम, ध्यान और पूजा की त्रिवेणी बहा करती है। अतः यह व्रत शारीरिक, बौद्धिक तथा आध्यात्मिक सभी स्तरों पर अपना प्रभाव छोड़ जाता है और उपवासकर्ता को कल्याणकारी मार्ग की ओर अग्रसर होने की प्रेरणा और क्षमता प्रदान करता है।
सभी धर्मावलम्बी, किसी न किसी रूप में वर्ष में कभी न कभी उपवास अवश्य रखते हैं। इससे भले ही उनकी जीवनी-शक्ति का जागरण न होता होगा किन्तु धार्मिक विश्वास के साथ वैज्ञानिक आधार पर विचार कर हम कह सकते हैं कि इससे लाभ ही मिलता है। उपवास का वास्तविक एवं आध्यात्मिक अभिप्राय भगवान की निकटता प्राप्त कर जीवन में रोग और थकावट का अंत कर अंग-प्रत्यंग में नया उत्साह भर मन की शिथिलता और कमजोरी को दूर करना होता है। 
श्री रामचरितमानस में राम को शक्ति, आनंद और ज्ञान का प्रतीक तथा रावण को मोह, अर्थात अंधकार का प्रतीक माना गया है। नवरात्र-व्रतों की सफल समाप्ति के बाद उपवासकर्ता के जीवन में क्रमशः मोह आदि दुर्गुणों का विनाश होकर उसे शक्ति, आनंद एवं ज्ञान की प्राप्ति हो, ऐसी अपेक्षा की जाती है। 

नवरात्र और दशहरा की शुभकामनाओं सहित!

...कविता रावत

गाँधी-शास्त्री जयंती पर दो कविताएँ

गाँधी-शास्त्री जयंती पर दो कविताएँ

                                          युगावतार गाँधी
चल पड़े जिधर दो डग, मग में, चल पड़े कोटि पग उसी ओर
पड़ गई जिधर भी एक दृष्टि, पड़ गये कोटि दृग उसी ओर;
जिसके सिर पर निज धरा हाथ, उसके शिर-रक्षक कोटि हाथ
जिस पर निज मस्तक झुका दिया, झुक गये उसी पर कोटि माथ।

हे कोटिचरण, हे कोटिबाहु! हे कोटिरूप, हे कोटिनाम!

तुम एक मूर्ति, प्रतिमूर्ति कोटि! हे कोटि मूर्ति, तुमको प्रणाम!
युग बढ़ा तुम्हारी हँसी देख, युग हटा तुम्हारी भृकुटि देख;
तुम अचल मेखला बन भू की, खींचते काल पर अमिट रेख।

तुम बोल उठे, युग बोल उठा, तुम मौन बने, युग मौन बना
कुछ कर्म तुम्हारे संचित कर, युग कर्म जगा, युगधर्म तना।
युग-परिवर्त्तक, युग-संस्थापक, युग संचालक, हे युगाधार!
युग-निर्माता, युग-मूर्ति! तुम्हें, युग-युग तक युग का नमस्कार!

तुम युग-युग की रूढ़ियाँ तोड़, रचते रहते नित नई सृष्टि
उठती नवजीवन की नीवें, ले नवचेतन की दिव्य दृष्टि।
धर्माडंबर के खंडहर पर, कर पद-प्रहार, कर धराध्वस्त
मानवता का पावन मंदिर, निर्माण कर रहे सृजनव्यस्त!

बढ़ते ही जाते दिग्विजयी, गढ़ते तुम अपना रामराज
आत्माहुति के मणिमाणिक से, मढ़ते जननी का स्वर्ण ताज!
तुम कालचक्र के रक्त सने, दशनों को कर से पकड़ सुदृढ़
मानव को दानव के मुँह से, ला रहे खींच बाहर बढ़-बढ़।

पिसती कराहती जगती के, प्राणों में भरते अभय दान
अधमरे देखते हैं तुमको, किसने आकर यह किया त्राण?
दृढ़ चरण, सुदृढ़ करसंपुट से, तुम कालचक्र की चाल रोक
नित महाकाल की छाती पर लिखते करुणा के पुण्य श्लोक!

कँपता असत्य, कँपती मिथ्या, बर्बरता कँपती है थर-थर!
कँपते सिंहासन, राजमुकुट, कँपते खिसके आते भू पर!
हैं अस्त्र-शस्त्र कुंठित लुंठित सेनायें करती गृह-प्रयाण!
रणभेरी तेरी बजती है, उड़ता है तेरा ध्वज निशान!

हे युग-दृष्टा, हे युग-स्रष्टा,
पढ़ते कैसा यह मोक्ष-मंत्र?
इस राजतंत्र के खंडहर में
उगता अभिनव भारत स्वतंत्र
                  - सोहनलाल द्विवेदी                        


छोटा सा तन हिया हिया हिमालय लाल बहादुर लाल का।


छोटी काया, दूर गांव था, पैदल आते-जाते थे।
सावन-भादौ नदी पार कर, प्रतिदिन पढ़ने जाते थे।।
भारी बस्ता, हालत खस्ता, पग में छाले पड़ जाते थे।
खुद पानी में सिर पर बस्ता नदी पार कर जाते थे।

संघर्षों से रहा जूझता जीवन प्यारे लाल का।
छोटा सा तन हिया हिमालय,लाल बहादुर लाल का।

लाल बहादुर वीर बालक का भावी पथ प्रधान था।
संघर्षों ने पाला उसको, वह तपा हुआ इन्सान था।।
कर्त्तव्यनिष्ठ , कर्मठ, कर्मयोगी, निष्ठावान महान था।
मानवता, स्नेह का पुतला, सात्विक तपस्वी समान था।।

अमन चैन शान्ति का पुजारी, योगी लाल कमाल था।
छोटा-सा तन हिया हिया हिमालय, लाल बहादुर लाल का।।

युग निर्माता, भाग्य विधाता, राष्ट्र-निर्माता था।
शौर्य शक्ति का पुजारी साक्षात् दुर्गा समान था।।

शान्तिदूत अहिंसा-पूजक, नर शिरोमणि सुजान था।
सब धर्मां के मधुर मिलन का, ज्योतित दीप आह्वान था।

कोटि-कोटि वन्दन अर्चन, करूँ माँ भारती के लाल का।
छोटा-सा तन हिया हिमालय, लाल बहादुर लाल का।।
                                                           … अज्ञात 


महात्मा गाँधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जयंती की हार्दिक शुभकामनायें! 
क्यों परीक्षा पड़ती सब पर भारी!

क्यों परीक्षा पड़ती सब पर भारी!

आज आया है शिवा का जन्मदिन
पर नहीं है कोई मनाने की तैयारी
मेज पर केक बदले पसरी किताबें
क्यों परीक्षा पड़ती सब पर भारी!

अनमना बैठा है उसका मिट्ठू
टीवी-मोबाईल से छूटी है यारी
गुमसुम है घर का कोना-कोना
क्यों परीक्षा पड़ती सब पर भारी!

घर में लगा हुआ है अघोषित कर्फ्यू
बस दिन-रात पढ़ना-रटना है जारी
बेस्वाद लगे किचन की खटपट-चटपट
क्यों परीक्षा पड़ती सब पर भारी!

शांत घर में आता परीक्षा का भूत तो
फिर कहाँ आपस की बातें प्यारी-प्यारी?
सुख-चैन तो उड़ा ले जाता प्रश्न-पत्र
क्यों परीक्षा पड़ती है सब पर भारी!
                         ....कविता रावत 

        हर वर्ष 20 सितम्बर को मेरे बेटे शिवा के जन्मदिन के समय ही उसकी छःमाही परीक्षाएं चल रही होती हैं। अभी वह कक्षा ७वीं में है और समझदार भी हो गया है इसलिए तो वह खुद ही परीक्षा समाप्त होने के बाद एक दिन निश्चित कर जन्मदिन मनाता है।   

  
 सुख-शांति और ज्ञान-बुद्धि के दाता है गणपति जी

सुख-शांति और ज्ञान-बुद्धि के दाता है गणपति जी

हमारी भारतीय संस्कृति में गणेश जी के जन्मोत्सव की कई कथाएं प्रचलित हैं। हिन्दू संस्कृति (कल्याण) के अनुसार भगवान श्रीगणेश के जन्मकथा का इस प्रकार उल्लेख है- “जगदम्बिका लीलामयी है। कैलाश पर अपने अन्तःपुर में वे विराजमान थीं। सेविकाएं उबटन लगा रही थी। शरीर से गिरे उबटन को उन आदि शक्ति ने एकत्र किया और एक मूर्ति बना डाली। उन चेतनामयी का वह शिशु अचेतन तो होता नहीं, उसने माता को प्रणाम किया और आज्ञा मांगी। उसे कहा गया कि बिना आज्ञा कोई द्वार से अंदर न आने पाए। बालक डंडा लेकर द्वारा पर खड़ा हो गया। भगवान शंकर अंतःपुर में आने लगे तो उसने रोक दिया। भगवान भूतनाथ कम विनोदी नहीं हैं, उन्होंने देवताओं को आज्ञा दी- बालक को द्वार से हटा देनी की। इन्द्र, वरूण, कुबेर, यम आदि सब उसके डंडे से आहत होकर भाग खड़े हुए- वह महाशक्ति का पुत्र जो था। इसका इतना औद्धत्य उचित नहीं फलतः भगवान शंकर ने त्रिशूल उठाया और बालक का मस्तक काट दिया।“ पार्वती ने जिस तपस्या से शिशु को प्राप्त किया उसके इस तरह जाने वे बहुत दुःखी हुई। उस समय भगवान विष्णु की सलाह से शिशु हाथी का सिर काटकर जोड़ दिया गया, जिससे वे जी उठे, लेकिन उनका शीश हाथी का होने से वे गणपति ‘गजानन‘ कहलाए। 
         भगवान गणेश के कई अवतारों की प्रचलित कथाओं सभी कथाओं पर यदि गहन विचार किया जाय तो एक बात जो समरूप दृष्टिगोचर होती है, वह यह कि गणेश जी ने समय-समय पर लोक जीवन में उपजी बुराईयों के पर्याय (प्रतीक) 'असुरों' की आसुरी शक्तियों का दमन कर लोक कल्याणार्थ अवतार लेकर सुख-शांति कायम कर यही सन्देश बार-बार दिया कि कोई भी बुराई जब चरम सीमा पर हो, तो उस बुराई का खात्मा करने के परियोजनार्थ जरुर कोई आगे बढ़कर उसे ख़त्म कर लोक में सुख-शांति, समृद्धि कायम करता है।  हर वर्ष लोक में व्याप्त ऐसी ही मोह, मद, लोभ, क्रोध, अहंकारादि असुरी शक्तियों की समाप्ति की मंशा लेकर लिए शायद हम गणेश चतुर्थी के दिन गणेश भगवान की स्थापना कर उनसे ज्ञान-बुद्धि देते रहने और सुख-शांति बनाये रखने के उद्देश्यार्थ उत्साहपूर्वक पूजा-आराधना कर उनके कृपाकांक्षी बनना नहीं भूलते हैं।
       अगले वर्ष फिर से गणपति जी विराजमान हों, इसलिए प्रेम व श्रद्धापूर्वक बोले : "गणपति बप्पा मोरया, पुरछिया वर्षी लौकरिया"।
सभी ब्लॉगर्स और सुधि पाठकों को गणेशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ!
भरे पेट भुखमरी के दर्द को कौन समझता है

भरे पेट भुखमरी के दर्द को कौन समझता है

पहनने वाला ही जानता है जूता कहाँ काटता है
जिसे कांटा चुभे वही उसकी चुभन समझता है

पराये दिल का दर्द अक्सर काठ का लगता है
पर अपने दिल का दर्द पहाड़ सा लगता है

अंगारों को झेलना चिलम खूब जानती है
समझ तब आती है जब सर पर पड़ती है

पराई दावत पर सबकी भूख बढ़ जाती है
अक्सर पड़ोसी मुर्गी ज्यादा अण्डे देती है

अपने कन्धों का बोझ सबको भारी लगता है
सीधा  आदमी  पराए  बोझ  से दबा रहता है

पराई चिन्ता में अपनी नींद कौन उड़ाता है
भरे पेट भुखमरी के दर्द को कौन समझता है

                                       ...कविता रावत 

अबकी बार राखी में जरुर घर आना

अबकी बार राखी में जरुर घर आना


राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना
न चाहे धन-दौलत, न तन का गहना
बैठ पास बस दो बोल मीठे बतियाना
मत गढ़ना फिर से कोई नया बहाना
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना

गाँव के खेत-खलियान तुम्हें हैं बुलाते
कभी खेले-कूदे अब क्यों हो भूले जाते
अपनी बारहखड़ी का स्कूल देखते जाना
बचपन के दिन की यादें साथ ले आना
भूले-बिसरे साथियों की सुध लेते जाना
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना

गाँव-देश छोड़ अब तू परदेश बसा है
बिन तेरे घर अपना सूना-सूना पड़ा है
बूढ़ी दादी और माँ का  है एक सपना
नज़र भरके नाती-पोतों को है देखना
लाना संग हसरत उनकी पूरी करना
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना

खेती-पाती में अब मन कम लगता
गाँव में रह शहर का सपना दिखता
सूने घर, बंजर खेती आसूं बहा रहे
कब सुध लोगे देख बागवाँ बुला रहे
आकर अपनी आखों से  देख जाना
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना

रह-रह कर आती गुजरे वर्षों की बातें
जब मीलों चल बातें करते न अघाते
वो सघन वन की पगडंडी सँकरी
सिर लादे घास-लकड़ी की भारी गठरी
आकर बिसरी यादें ताज़ी कर जाना 
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना


गाँव के बड़े-बुजुर्ग याद करते रहते हैं
अपने-पराये जब-तब पूछते रहते हैं
क्यों नाते रिश्तों को तुम भूल गए हो!
जाकर सबसे दूर अनजान बने हुए हो
आकर सबकी खबर सार लेते जाना
राह ताक रही है तुम्हारी प्यारी बहना
अबकी बार राखी में जरुर घर आना

                   ......कविता रावत



फायदे अक्सर आदमी को गुलाम बना देते हैं

फायदे अक्सर आदमी को गुलाम बना देते हैं

सोने की बेड़ियां हों तो भी उसे कौन चाहता है?
स्वतंत्रता स्वर्ण से अधिक मूल्यवान होता है

बंदी  राजा  बनने से आजाद पंछी बनना भला
जेल के मेवे-मिठाई से रूखा-सूखा भोजन भला

स्वतंत्रता का अर्थ खुली छूट नहीं होती है
अत्यधिक स्वतंत्रता सबकुछ चौपट करती है

लोहा हो या रेशम दोनों बंधन एक जैसे होते हैं
फायदे अक्सर आदमी को गुलाम बना देते हैं

स्वामिनारायण अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

स्वामिनारायण अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली

स्वामिनारायण अक्षरधाम! भारतीय संस्कृति और अध्यात्म के ज्योतिर्धर के रूप में अवतरित भगवान स्वामिनारायण का शाश्वत निवास-धाम है। दिल्ली के पावन यमुना-तट पर जहाँ ऊबड़-खाबड़ झाडि़यों से युक्त विशाल बंजर भूमि थी, वहां मात्र पांच वर्ष में पलक झपकते सम्पन्न हुआ कल्पनातीत स्वामिनारायण अक्षरधाम का सृजन, जो विश्व का महान आश्चर्य है।
गुरुदेव ब्रह्मस्वरूप योगीजी महाराज के संकल्प को साकार करने हेतु, प्रमुखस्वामी महाराज की प्रेरणा से इस अद्भुत स्मारक का सृजन हुआ है। वैसे तो मंदिर के लिए पिछले 32 वर्षों से गतिविधियां चल रही थीं, किन्तु आवश्यक 100 एकड़ का विशाल भू-खंड प्राप्त होते ही 8 नवम्बर 2000 को इस भव्य सांस्कृतिक संकुल का शिलान्यास मुहुर्त संपन्न हुआ और ठीक 5 वर्ष की अल्पावधि में निर्माण कार्य पूर्ण हुआ। 6 नवम्बर 2005 को प्रमुखस्वामी महाराज, भारत के पूर्व राष्ट्रपति डाॅ. ए.पी.जे.कलाम, प्रधानमंत्री श्री मनमोहनसिंह तथा विपक्ष के नेता श्री लालकृष्ण आडवाणी की संयुक्त उपस्थिति में इस अक्षरधाम संकुल का भव्य उद्घाटन समारोह संम्पन्न किया गया।
इस सांस्कृतिक संकुल के विशाल परिसर के मध्य मे गुलाबी पत्थरों में पद्म पुष्प की भाँति प्रस्फुटित स्वामिनारायण अक्षरधाम एक दिव्य महालय जैसा विभूषित है। इसके सर्जन में जुटे 11000 से भी अधिक स्वयंसेवकों-संतो-शिल्पियों के 30 करोड़ मानव घंटों की भक्तिपूर्ण कार-सेवा का योगदान सदा अविस्मरणीय रहेगा।
भारत के प्रसिद्ध चित्रकार एवं आर्किटैक्ट सतीश गुजराज आस्थाशून्य हृदय से अक्षरधाम दर्शन के लिए उपस्थित हुए थे। बाहर निकलने पर अपनी अनुभूतियों को व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा, “नास्तिक को भी आस्तिक बना दे, ऐसा दिव्य आयोजन है, यहाँ! इसकी भव्यता और शिल्प-कला शब्दातीत है! यहां आकर मैं दिग्मूढ़-सा हो गया हूँ। मेरा दृढ़ मत है कि इस प्रकार का निर्माण करने में कम से कम 50 वर्ष अवश्य लग जाते!“
इस अद्भुत चमत्कार का निर्माण मात्र 5 वर्ष में कैसे संभव हुआ? क्या इसके सृजन के लिए देव-शिल्पी भगवान विश्वकर्मा का अवतरण तो नहीं हुआ? इसका एकमात्र उत्तर है-श्रेष्ठतम आयोजन, उत्कृष्ट प्रबंधन और समर्पणपूर्ण प्रतिबद्धता।
दिल्ली से 400 कि.मी. दूर राजस्थान के बंसीपहाड़पुर की खानों से पत्थर लाकर, दिल्ली से 700 कि.मी. दूर पिंडवाड़ा, सिंकदरा तथा राजस्थान के दो दर्जन से अधिक कारखानों में विशाल पत्थरखंडों को पहुंचाना साधारण कार्य न था। 8 लाख घनफीट लाल-गुलाबी सेन्ड स्टोन और सफेद संगमरमर के पत्थरों को गढ़-तराश कर उन्हें अद्भुत शिल्पकला में संवारना और फिर ट्रांसपोर्ट द्वारा दिल्ली भेजना मनुष्य के लिए एक असंभव सी चुनौती थी। दिल्ली में इन कलात्मक शिल्पों को संयोजित करके निर्माणाधीन स्मारक में उचित स्थान पर जोड़ दिया जाता था। इस प्रकार 11000 स्वयंसेवकों और शिल्पियों के रात-दिन होते रहे अथक परिश्रम से विश्व का यह महान आश्चर्य भारत की राजधानी में साकार हुआ।
मुख्य स्मारक लाल-गुलाबी बलुई पत्थर तथा सफेद संगमरमर से निर्मित हुआ है, जो 141 फुट ऊंचा, 316 फुट चौड़ा तथा 356 फुट लम्बा है। अक्षरधाम में नक़्कासीदार 234 स्तंभ, 9 विशाल गुम्बद, 20 शिखर तथा 20,000 से भी अधिक तराशी हुई अत्यंत मनोहर कलाकृतियां हैं। स्मारक के मध्य में 11 फुट ऊंची भगवान स्वामिनारायण की स्वर्णिम प्रतिमा प्रतिष्ठित है तथा चारों ओर अवतार प्रतिमाएं दर्शनीय हैं। स्मारक तीन दिशाओं में पवित्र नारायण सरोवर से घिरा हुआ है, जिसमें भारत सहित विश्व के 151 पवित्र तीर्थो-नदियों-झीलों का जल भरा हुआ है। डेढ़ कि.मी. लम्बा दो मंजिला परिक्रमा पथ, स्मारक के चारों ओर रत्न-हार के समान सुशोभित है।
अक्षरधाम परिसर में दो विशाल प्रदर्शनकक्ष, भव्य आईमेक्स थिएटर, अद्भुत संगीतमय रंगीन फ़व्वारा, विशाल भारत उद्यान, अलंकारिक स्वागत द्वार तथा उच्च स्तरीय प्रेमवती आहार गृह आदि भारत के गौरवपूर्ण सांस्कृतिक विरासत की रोमांचक अनुभूति कराते हैं। सहजानंद दर्शन कक्ष में भगवान स्वामिनारायण के जीवन से संबंधित महत्वपूर्ण घटनाओं को आधुनिक तकनीकी के माध्यम से जीवंत स्वरूप में प्रस्तुत किया गया है। इस प्रस्तुति में फिल्म, ध्वनि, प्रकाश, रोबोटिक सिस्टम तथा अत्याधुनिक कम्प्यूटराइल्ड तकनीकी के संयुक्त संयोजन से रोबोटिक पुतलों और प्राकृतिक दृश्यों को देखकर सजीव वातावरण का आभास होता है।
प्रदर्शन का दूसरा महत्वपूर्ण भाग है- संस्कृति-विहार, जो अक्षरधाम की भूमि पर बना एक अजूबा संसार है। मात्र 14 मिनट में रोमांचक नौका-यात्रा करता हुआ यात्री, 10 हजार वर्ष पूर्व भारत की गौरवशाली संस्कृति को सरस्वती नदी के तट पर हूबहू सजीव-सा देखकर रोमांच की पराकाष्ठा का अनुभव करता है। 800 प्रतिमाएं सजीव-सी होकर भारत के प्राचीन इतिहास की अमरगाथा प्रस्तुत करती हुई दृष्टिगोचर होती हैं। वेदकालीन बाजार, अर्थव्यवस्था, तक्षशिला विश्वविद्यालय, महर्षि चरक की औषधशाला तथा ज्ञान-विज्ञान के विभिन्न आविष्कारों को देखते समय नौका-यात्री अपने वर्तमान को भूलकर स्वयं को वैदिक युग में खड़ा हुआ पाता है।
प्रदर्शनी का तीसरा भाग आई-मेक्स थिएटर है, जिसके 85 फुट × 65 फुट के महाकाय पर्दे पर 40 मिनट तक “नीलकंठ-दर्शन“ फिल्म देखकर दर्शक अभिभूत हो जाता है। भगवान स्वामिनारायण मात्र 11 वर्ष की बाल्यावस्था में गृह त्यागकर खुले शरीर, नंगे पांव भारत के तीर्थों की यात्रा पर निकल पड़ते हैं। हिमालय की ऊंची-ब़र्फीली चोटियों पर चढ़ते, फिसलते, गिरते और पुनः उठकर आगे बढ़ते नीलकंठ को देखकर दर्शक रोमांचित हो उठता है। नीलकंठ के जीवन पर आधारित विश्व की इस प्रथम कथात्मक आई-मेक्स फिल्म का निर्माण बी.ए.पी.एस. स्वामिनारायण संस्था द्वारा किया गया है, जिसमें 45,000 कलाकारों ने भिन्न-भिन्न लोकेशन्स पर इस फिल्म की शूटिंग की गई है। हाॅलीवुड के विख्यात संगीतकार सेम कार्डन के प्रभावशाली संगीत के साथ इस फिल्म को देखकर दर्शक भाव-विह्वल हो उठता है।
22 एकड़ में फैले हुए विशाल “भारत उद्यान“ में 9 लाख से भी अधिक पेड़-पौधों-फूलों और लताओं की दुनिया ही अनूठी है। पर्यावरण की दृष्टि से दिल्लीवासियों के लिए यह एक महान् उपलब्धि है।
इस परिसर के उद्घाटन के अवसर पर इसके सर्जक-प्रेरक प्रमुखस्वामी महाराज ने कहा था, “अक्षरधाम भगवत् श्रद्धा और शान्ति का तीर्थधाम है, जो समूची मानवजाति को आत्मिक आनंद की ओर अग्रसर करके, उसे संस्कार-समृद्ध और दिव्य चेतना से परिपूर्ण करता रहेगा।“
अक्षरधाम परिसर भारत की गौरवमयी सांस्कृतिक विरासत का एक अभूतपूर्व संग्रहालय है, जो भारत के स्वर्णिम अतीत का अभिनंदन करता है, वर्तमान की व्याख्या करता है और भविष्य के लिए शुभाशीष प्रस्तुत करता है।
दस स्वागत द्वार
         विभिन्नता में एकता, विचारों की स्वतंत्रता और अनंत आविष्कार भारतीय संस्कृति की अनुपम विरात है। यह अमूल्य विरासत दस स्वागत द्वारों पर प्रतीकात्मक रूप से अभिव्यक्त हो रही है। अक्षरधाम के सुदीर्घ स्वागत-मार्ग में जलधाराओं के अभिवर्षण के साथ सुशोभित दस द्वार, दसों दिशाओं से ज्ञान प्राप्ति की स्वतंत्रता के प्रतीक हैं। ये स्वागत द्वारा ऋग्वेद की विभावना ’प्रत्येक दिशाओं से हमें शुभ विचार प्राप्त हों’ इस परम सत्य का अभिनव दर्शन कराते हैं।
द्वारों से प्रवाहित जलधाराएं हमारे मानसिक संताप को मिटाती हैं और सांसारिक उत्तेजनाओं को शांत करती हैं। यह एक आध्यात्मिक आनंद की अवर्णनीय अनुभूति है।
दस प्रवेश द्वारों से होकर गुजरने वाला यात्री भारत की प्राचीन, किन्तु आधुनिक सांस्कृतिक उपलब्धियों का अवलोकन कर मंगलमय अनुभूति के साथ उद्यान की आनंदमयी हरीतिमा में निमग्न हो जाता है।  
भक्ति द्वार
भक्तिद्वार प्रस्तुत करता है भक्ति के उस पारंपरिक मार्ग को, जिसमें भगवान और उनके समर्पित भक्तों के 208 युगल रूवरूपों को अद्भुत शिल्पकला में तराशा गया है।
मयूर द्वार
दो मयूर द्वार कला और सौंदर्य से विभूषित हैं, जो यात्रियों को आनंद की सौगात लुटाते हैं। विविध आकार एवं मुद्राओं में शिल्पांकित 869 आकर्षक मयूर, द्वारों की सौंदर्य वृद्धि करते ऐसे सुशोभित हैं, मानो कि प्रकृति को चुनौती देते हों। 
जहां पत्थर भी भव्यता के गीत गाते हैं और जहां दिव्य चेतना के संस्पर्श से समय भी रूक जाता है। दिव्य तत्व का आशीर्वाद तथा स्वयंसेवकों की कल्पनातीत सेवा ही अक्षरधाम के सर्जन का रहस्य है, जो दर्शक को शान्ति  और भव्यता की अनुभूति में डुबो देता है। 
सहस्त्रों वर्ष पुरातनी गौरवशाली भारतीय संस्कृति का जीवंत प्रतीक है-अक्षरधाम स्मारक! जो विभिन्न मुद्राओं में पूर्ण कद के गजराजों की गजेन्द्रपीठ पर निर्मित है। यह पीठ शास्त्र-कथाओं के आधार पर मूल्यों का संदेश सुनाती है। मंडोवर की बाहरी दीवाल पर प्राचीन भारत के आचार्यों, ऋषियों और अवतारों के मनोहर शिल्प दृश्यमान होते हैं। मंडोवर के शीर्ष पर वितान की भांति फैले सामरण के ऊपर पारंपरिक शिखर और गुम्बद पर स्वर्णिम कलश पर लहराते ध्वज, दर्शकों को मानो किसी नये ब्रह्मांड की यात्रा की अनुभूति करा रहे हैं। मुख्य स्मारक की बाह्य दीवार को मंडोवर के रूप में जाना जाता है। मंडोवर की लम्बाई 610 फुट और ऊंचाई 25 फुट है। यह मंडोवर भारत में अब तक निर्मित मंडोवरों में सबसे लम्बा और ऊंचा है। इसमेमं भारत के महान ऋषियों, अवतारों, भक्तों आदि की 200 जीवंत कद की प्रतिमाएं, भारत की प्राचीन सांस्कृतिक विरासत की गौरव गाथा का बयान करती हैं। 
स्मारक के मध्य खण्ड में भव्य काष्ठ सिंहान पर विराजमान 11 फुट ऊंची भगवान स्वामिनारायण की स्वर्णिम मूर्ति। श्रीचरणों में हाथ जोड़े हुए अक्षरब्रह्म गुणातीतानंद स्वामी, वचनामृत ग्रंथ लिए भगतजी महाराज, शास्त्रीजी महाराज, दिल्ली में “अक्षरधाम“ के स्वप्नद्रष्टा योगीराज महाराज और सर्जक प्रमुखस्वामी महाराज! यहां पर यात्री दिव्य शांति, आनंद और श्रद्धा के सागर में डूब जाता है।
भारतवर्ष की भूमि पर निवास करने वाला विशाल जन समुदाय, सांस्कृतिक, शारीरिक, भाषागत तथा अपनी मान्यताओं की भिन्नता के बावजूद पूरब से पश्चिम और उत्तर से दक्षिण तक आध्यात्मिक रूप् से जुड़ा हुआ है। सनातन धर्म के अवतारों श्रीराम-सीता, श्रीराधा-कृष्ण, श्रीलक्ष्मी-नारायण तथा श्रीशिव-पार्वती की प्रतिमाएं भी भगवान श्री स्वामिनारायण के साथ अक्षरधाम में प्रतिष्ठित की गई हैं। इन प्रतिमाओं की दिव्य उपस्थिति श्रद्धालुजन दर्शकों को निष्ठा, समर्पण तथा नैतिक मूल्यों की प्रेरणा प्रदान करती है।
अक्षरधाम मंदिर, दिल्ली से प्राप्त पुस्तिका से संकलित 

मौत नहीं पर कुछ तो अपने वश में होता ही है

मौत नहीं पर कुछ तो अपने वश में होता ही है

जरा इन मासूम बच्चों को अपनी संवेदनशील नजरों से देखिए, जिसमें 14 वर्ष की सपना और उसकी 11 वर्ष की बहिन साक्षी और 11 वर्ष के भैया जिन्हें अभी कुछ दिन पहले तक माँ-बाप का सहारा था, वे 1 जुलाई 2018 रविवार को भयानक सड़क दुर्घटना भौन-धुमाकोट मोटर मार्ग पर होने से बेसहारा हो चुके हैं। इस दर्दनाक हादसे से उत्तराखंड ही नहीं अपितु पूरा देश दहल उठा, जिसने भी सुना/ देखा उनकी आंखे नम हुए बिना नहीं रही। इस हादसे में इन तीनों बच्चों ने माँ-बाप को खो दिया, जिससे इनके सामने परवरिश की बड़ी विकट समस्या खड़ी हो गयी है। भले ही निकट रिश्तेदार, सगे सम्बन्धी इनको अभी सहारा दें लेकिन मां-बाप जितना अपने बच्चों के लिए करते हैं, उतना और किसी के लिए करना कहाँ संभव हो पाता है, यह हम सभी जानते हैं। इन बच्चों ने पहले तो अपने दादा-दादी खोये और अब काल ने इनके माँ-बाप को भी लील लिया। प्रभु की इस लीला को, मृत्यु के तांडव-नृत्य के रहस्य को, प्रकृति के इस दंड-विधान को, जगनियन्ता की क्रीड़ा ही मान सकते हैं, जिसका भेद पाना मनुष्य के वश में नहीं है। हाँ कोई नचिकेता हो तो संभव है, मृत्यु के रहस्य को पा सके। कोई भी दुर्घटना न मनुष्य की उपयोगिता और महत्ता को देखती है और न समय और कुसमय को। कोई व्यक्ति किसी आवश्यक कार्य से जा रहा है, कितने उत्साह के साथ किसी स्वागत-समारोह या विवाहोत्सव की तैयारियां हो रही हों, इन बातों से दुर्घटना का  कोई वास्ता नहीं, जरा झटका लगने की देर है और मनुष्य की जीवन-लीला समाप्त। लगता है दुर्घटना को तो जैसे किसी की बलि चाहिए- चाहे वह कोई भी हो, उसे किसी का निहाज नहीं, किसी से प्यार नहीं। जब भी ऐसी किसी दुर्घटना के बारे में सुनती हूँ तो मेरा मन बड़ा व्यथित हो जाता है, क्योंकि 13 जून, 2010 को ऐसी ही एक सड़क दुर्घटना में मेरे ममेरे देवर  अपनी टाटा सूमो सहित एक गहरी खाई में गिर गये थे, जिसमें बैठे 9 लोगों की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई थी।
     "सदा न फूले तोरई, सदा न सावन होय, सदा न जीवन थिर रहे, सदा न जीवै कोय।" अर्थात् इस संसार में न तो सदा-सदा के लिए सावन  है, न फल-फूल, न कोई स्थिर है और नहीं जीवित रहता है। बाबजूद इसके मनुष्य प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ है, क्योंकि उसके पास संवेदना है, सोच-विचार, अच्छे-बुरे को समझने की शक्ति है।  हम सभी अच्छी तरह जानते हैं कि मानवीय संवेदना और इंसानियत की लौ सबके दिलों में जलती रहती हैं, बस उसे जिन्दा रखने की जरुरत होती  है। मैंने एक छोटी सी पहल की है और आप से भी अनुरोध करती हूँ कि थोड़ा संवेदनशील होकर विचार-विमर्श करते हुए मानवीय आधार पर इन मासूमों को थोड़ा-थोड़ा सहारा देने के लिए आगे बढ़ें, आपका एक छोटे से छोटा सहयोग भी इन्हें इनके भविष्य गढ़ने में मददगार साबित होगा, जीने का आधार बनकर  इन्हें संबल प्रदान करेगा, और वे जीवन जीने की राह पर चलना सीख सकें।  इसलिए यथा सामर्थ्य सहायता करने में पीछे न रहे। बूँद-बूँद से घड़ा भरता है। एक-एक रुपये करके भी लाखों आसानी से जमा हो सकते हैं, बस इसके लिए इच्छा शक्ति और संवेदनशीलता की जरुरत है। आजकल तो इंटरनेट बैंकिंग और ऐप से किसी के खाते में पैसे जमा करना बड़ा आसान काम हो गया है। अभी बच्चें अपने   मामा अरुण भदोला के पास है, जो भी व्यक्तिगत रूप से संवेदना अथवा आर्थिक सहयोग करना चाहें, वे उनके मोबाइल नम्बर 8650536735 से संपर्क कर सकते हैं।
            
सपना और साक्षी के निम्न बैंक खाते के माध्यम से आप सहयोग कर सकते हैं-
1. कु. सपना पुत्री स्व0 सुखदेव स्व0बबली देवी
कक्षा 9 ई0का0 अन्द्रोली
ग्राम अपोला पोस्ट अन्द्रोली नैनीडांडा
पौड़ी गड्वाल उतराखण्ड।
खाता संख्या. 35559265859
IFSC SBIN0004533
SBI DHUMAKOT

2. कु.  साक्षी पुत्री स्व0 सुखदेव स्व0 बबली देवी
कक्षा 7 ई0का0 अन्द्रोली
ग्राम अपोला पोस्ट अन्द्रोली नैनीडांडा
खाता संख्या. 31863809098
IFSC SBIN0004533
SBI DHUMAKOT
दशरथ मांझी की राह चला एक और मांझी

दशरथ मांझी की राह चला एक और मांझी


   माउंटेन मैन ‘दशरथ मांझी’ की तरह अपनी दयनीय स्थिति के बावजूद दृढ़ इच्छा शक्ति रखने वाला एक और मांझी जो कि मध्यप्रदेश के जिला होशंगाबाद का निवासी है, जो एक पिछड़े इलाके सोहागपुर जैसे एक छोटे से स्कूल का हिंदी माध्यम का औसत दर्जे के छात्र रहा है, बावजूद इसके जिसने भोपाल आकर 8 वर्ष की कठोर साधना के बाद वर्ष 2016 में MBBS की प्रवेश परीक्षा NEET पास करके भोपाल स्थित चिरायु मेडिकल काॅलेज एंड हॉस्पिटल में दाखिला लेकर ही दम लिया है। यहाँ एक बात स्पष्ट है कि जहां बहुत से छात्र दो-तीन बार असफल होने पर आगे उसकी तैयारी छोड़कर दूसरी राह चल पड़ते हैं वहीं मांझी की दृढ़ इच्छाशक्ति का ही परिणाम है कि उसने अपनी दयनीय आर्थिक स्थिति और विकट परिस्थितियों के बाद भी कई बार असफल रहने के बाद हार नहीं मानी, मैदान नहीं छोड़ा, डटा रहा और कभी निराश नहीं हुआ। वह निरन्तर मेरिट में आने के लिए सरकारी काॅलेज मिलने की आस लगाये कठोर परिश्रम करता रहा, ताकि वह सरकारी काॅलेज में दाखिला लेकर सरकारी अनुदान से अपनी एम.बी.बी.एस. की पढ़ाई पूर्ण कर सके। लेकिन इस दौरान मेडिकल प्रवेश परीक्षा के पैटर्न में बदलाव किया गया तो नए नियमों के तहत जब उसने देखा कि अब वह आगे प्रवेश परीक्षा के लिए पात्र नहीं होगा तो फिर अन्य कोई विकल्प न होने से उसे प्रायवेट काॅलेज में प्रवेश लेना पड़ा। जहाँ उसे इस बात का मलाल जरूर है कि यदि वह आरक्षित श्रेणी का होता तो निश्चित ही अब तक वह अपनी एम.बी.बी.एस. की पढ़ाई पूर्ण कर चुका होता और उसे अपनी फीस भरने के लिए इधर-उधर मारा-मारा नहीं भटकना पड़ता।
      मांझी के पिताजी फलों का हाथ ठेला लगाकर अपने परिवार का गुजर-बसर कर रहे हैं, इसके बाद भी बेहद तंगहाली में उन्होंने धुन के पक्के अपने बेटे की दृढ़ इच्छा शक्ति और कठोर परिश्रम को पढ़ लिया तभी तो उन्होंने अपना जो कुछ थोड़ा बहुत था, उसे बेचकर और रिश्तेदारों से कर्जा लेकर प्रायवेट मेडिकल काॅलेज में प्रवेश दिलाने की हिम्मत दिखाई। वे पढ़े-लिखे भले ही नहीं है, लेकिन इस बात को अच्छे से समझ गए हैं कि जब उनके बेटे ने तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद मेडिकल प्रवेश परीक्षा पास की है तो निश्चित ही वह आगे भी कठोर परिश्रम कर अपनी मंजिल तक पहुंचने में कामयाब रहेगा। वे अपने बेटे की लगन देखकर समझ गए हैं कि कठिन परिश्रम के लिए आदमी में जो सहनशीलता, साहस, निर्भीकता आदि गुण होने आवश्यक है, वे उसमें विद्यमान हैं। क्योंकि कठोर परिश्रम करने की प्रवृत्ति प्रत्येक व्यक्ति में नहीं होती, लेकिन अपनी धुन के पक्के व्यक्ति कठिन परिश्रम करके जैसे-तैसे एक दिन अपनी मंजिल पाकर ही दम लेते हैं।
     एक ओर जहाँ धर्मेंद्र मांझी को MBBS प्रथम वर्ष की परीक्षा पास करके पहली सीढ़ी पार करने की अपार प्रसन्नता हुई तो वहीँ दूसरी ओर जब फीस भरने की चिंता हुई तो उसने अपने कॉलेज के सहपाठियों, डॉक्टरों एवं जान पहचान निकाल कर घर-घर जाकर पैसा इकट्ठा किया और पूरी फीस भरकर ही दम लिया। उसे आगे की फीस भरने की चिंता आज भी है, जिससे उसकी पढाई बाधित हो रही है। वह आज भी पढाई के साथ-साथ ही व्यर्थ ही बड़े-बड़े एनजीओ, क्लब, एसोसिएशन और शासन-प्रशासन के चक्कर काटने में लगा है, बावजूद इसके वह एक-दूसरे से पहचान निकल कर घर-घर व्यक्तिगत संपर्क कर एक-एक पैसा इकट्ठा करने में जुटा है। 
      मांझी कठोर संघर्ष में जीने वाला जीव है, इसलिए उसे पूरी उम्मीद है कि केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा जो गरीबों के लिए मुफ्त शिक्षा की बड़ी-बड़ी बातें और घोषणा की हैं, वह केवल कोरी मुंहजुबानी और कागजों तक सीमित नहीं रहेगी। उसे पूरी उम्मीद है कि एक दिन कोई न कोई  उसकी पुकार सुनने वाला जरूर मिलेगा।    
 मांझी के लिए इस समय १-१ रुपये की बहुत बड़ी कीमत है, आपके द्वारा दी जाने वाली एक छोटी से छोटी धनराशि भी उसे उसकी मंजिल के करीब लाएगी और उसका सपना पूरा होगा, इसके हेतु कृपया अपना आर्थिक योगदान उसके निम्न बैंक खाते, Paytm अथवा वर्तमान निवास के माध्यम से प्रदान करने की कृपा करें:-
नाम-  धर्मेन्द्र कुमार मांझी    
Mobile Number :  9340359567
बैंक का नाम - बैंक आॅफ बड़ौदा, शाखा हबीबगंज भोपाल
Account No.   18600100015544
IFSC Code  :   BARB0HABIBG    (Fifth character is Zero)
MICR Code :  462012005
Paytm No.      9340359567

 वर्तमान निवास का पता -
हनुमान मंदिर स्वर्गाश्रम,
बद्रीनारायण मंदिर के पास,
 साउथ टी.टी. नगर, भोपाल  

 पूर्व संदर्भित लिंक ...
http://www.kavitarawat.in/2018/05/blog-post_24.html

 समाचार पत्र दैनिक 'पत्रिका' में शीर्षक "दृढ इच्छा शक्ति के बूते सफलता' नाम से प्रकाशित, link
https://www.patrika.com/opinion/mountain-man-dashrath-manjhi-2899154/