ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Sunday, August 2, 2009

सबको नाच नचाता पैसा



नाते रिश्ते सब हैं पीछे
सबसे आगे है ये पैसा
खूब हंसाता, खूब रूलाता
सबको नाच नचाता पैसा!
अपने इससे दूर हो जाते
दूजे इसके पास आ जाते
दूरपास का खेल ये कैसा
सबको नाच नचाता पैसा!

बना काम घर लौटे खुश होकर
ओढ़ी चादर सो गये तनकर
तभी देकर पैसा कोई बिगाड़ता काम
देखकर हश्र उड़ती नींद खाना हराम
कम्बख्त किसने ये खेल खेला ऐसा
सबको नाच नचाता पैसा!

छोड़छाड़ कर काम अपना लगे मैच देखने
मार चौका, लगा छक्के लगे एडवाइस देने
पर जब लगता सट्टा या मैच होता फिक्स
फिर कहाँ फोर? कैसा सिक्स!
कमबख्त किसने ये खेल बिगाड़ा ऐसा
सबको नाच नचाता पैसा!

जब तक घुटती आपस में
क्या तेरा क्या मेरा
बस जुबां पर सिर्फ नाम उनका
क्या सांझ! क्या सबेरा!
पर जब चलता लेन-देन होती खटपट
तब जाता भाड़ में सबकुछ सरपट 
फिर संबंध कहाँ रहता पहले जैसा!
सबको नाच नचाता पैसा!
सबको नाच नचाता पैसा!

..कविता रावत 

33 comments:

  1. Vah Kavita ji,
    apane to paise ko lekar aaj ke samaj ka ek katu satya prastut kar diya hai....achchhee lagee apakee kavita .Badhai.
    kabhee mauka lage to mere blog par bhee aiye .apaka svagat hai.
    Poonam

    ReplyDelete
  2. नाते रिश्ते सब हैं पीछे
    सबसे आगे है ये पैसाखूब हंसाता, खूब रूलाता

    सबको नाच नचाता पैसा!

    अपने इससे दूर हो जाते

    दूजे इसके पास आ जाते

    दूरपास का खेल ये कैसा

    सबको नाच नचाता पैसा!

    Kavita ji,
    Bahut hee yatharthparak kavita likhee hai apane ..aj kee duniya kee sahee tasveer....
    Badhai sveekaren
    Hemant Kumar

    ReplyDelete
  3. पैसे की बह्त बड़ी महिमा है.बहुत सुन्दर.


    चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें.

    गुलमोहर का फूल

    ReplyDelete
  4. bahut sachchi kavita

    paise kee mahima ka aapne sateek varnan kiya hai


    meri shubh kamnayen


    कृपया वर्ड वैरिफिकेशन की उबाऊ प्रक्रिया हटा दें !
    लगता है कि शुभेच्छा का भी प्रमाण माँगा जा रहा है।
    इसकी वजह से प्रतिक्रिया देने में अनावश्यक परेशानी होती है !

    तरीका :-
    डेशबोर्ड > सेटिंग > कमेंट्स > शो वर्ड वैरिफिकेशन फार कमेंट्स > सेलेक्ट नो > सेव सेटिंग्स

    आज की आवाज

    ReplyDelete
  5. paise ki baat hi juda hai

    arth bin sab vyarth hai....

    aapko badhaai !

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा लिखा है आपने । भाव और विचारों की सुंदर प्रस्तुति के साथ ही कुछ सामायिक प्रश्नों को भी आपने प्रमुखता से उठाया है। सटीक शब्दों केचयन और विचारशीलता के समन्वय से लेखन प्रभावशाली हो गया है।
    मैने अपने ब्लाग पर एक लेख लिखा है-इन देशभक्त महिलाओं केजज्बे को सलाम-समय हो तो पढें़ और कमेंट भी दें।

    http://www.ashokvichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. सबको नाच नचाता पैसा

    kisi ne sach kaha hai paisaa haath ki aisi mail hai jo sab apne paas rakhna chahte hain..... sundar likha hai

    ReplyDelete
  8. रुपयों से सम्बन्ध हैं रुपयों के सम्बन्ध.
    सम्बन्धों में बस गयी रुओअयों की दुर्गन्ध.
    बढिया रचना है.

    ReplyDelete
  9. सबको नाच नचाता पैसा
    वाह...सच्ची बात लिखी है ...!!

    ReplyDelete
  10. यथार्थ को कहती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  11. यही आज का सच है...बढ़िया रचना.

    ReplyDelete
  12. आज के हालात पर बहुत सुन्दर चित्रण किया है।….. धन्यवाद

    ReplyDelete
  13. पैसे की माया ही निराली है
    सटीक रचना

    ReplyDelete
  14. भावो की सुन्दर प्रस्तुति |
    आशा

    ReplyDelete
  15. आज नयी पुरानी हलचल में आपकी रचना देखी..
    बहुत बहुत सुन्दर.
    बधाई...

    ReplyDelete
  16. सच्ची बात कह दी।

    ReplyDelete
  17. Bahut sundar vyang.....

    Inhi rupaye paison ki baat yahan bhi hai...http://www.poeticprakash.com/2009/07/blog-post_17.html

    ReplyDelete
  18. यथार्थ की सुन्दर अभिव्यक्ति...
    सादर...

    ReplyDelete
  19. पहली रचना वह भी धमाकेदार ..वाह कविता जी..
    हर जगह व्याप्त पैसे का इससे अच्छा सटीक आंकलन क्या होगा!!!

    ReplyDelete
  20. यह पैसा ही सारे फसाद कि जड़ होता है, पास हो तो मुश्किल न हो तो भी मुश्किल ...
    http://aapki-pasand.blogspot.com/2011/12/blog-post_21.html

    ReplyDelete
  21. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  22. पैसे की माया,
    वाह कविता जी ,
    क्या खूब सुनाया !

    ReplyDelete
  23. kambakhat nachaye hi ja raha hai...badhiya

    ReplyDelete
  24. कल 16/05/2012 को आपके ब्‍लॉग की प्रथम पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... '' मातृ भाषा हमें सबसे प्यारी होती है '' ...

    ReplyDelete
  25. अच्छा लगा पहली रचना पढ़ कर........
    बहुत खूब कविता जी.

    सादर.

    ReplyDelete
  26. मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि
    आप की ये रचना 17-05-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल
    पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ।
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाना।

    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।

    ReplyDelete
  27. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर भाव और शब्द चयन |
    आशा

    ReplyDelete
  29. वाकई सबको नचाता है पैसा...सुंदर भाव

    ReplyDelete
  30. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 18 फरवरी 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete