असहाय वेदना

वो पास खड़ी थी मेरे
दूर कहीं की रहने वाली,
दिखती थी वो मुझको ऐसी
ज्यों मूक खड़ी हो डाली।
पलभर उसके ऊपर उठे नयन
पलभर नीचे थे झपके,
पसीज गया यह मन मेरा
जब आँसू उसके थे टपके।
वीरान दिखती वो इस कदर
ज्यों पतझड़ में रहती डाली,
वो मूक खड़ी थी पास मेरे
दूर कहीं की रहने वाली।।
समझ न पाया मैं दु:ख उसका
जाने वो क्या चाहती थी,
सूनापन दिखता नयनों में
वो पल-पल आँसू बहाती थी।
निरख रही थी सूनी गोद वह
और पसार रही थी निज झोली
जब दु:ख का कारण पूछा मैंने
तब वह तनिक सहमकर बोली-
'छिन चुका था सुहाग मेरा
किन्तु अब पुत्र-वियोग है भारी,
न सुहाग न पुत्र रहा अब
खुशियाँ मिट चुकी है मेरी सारी।'
'असहाय वेदना' थी यह उसकी
गोद हुई थी उसकी खाली,
वो दुखियारी पास खड़ी थी
दूर कहीं की रहने वाली।।

Copyrigt@Kavita Rawat, Bhopal २३ फरवरी २००९

SHARE THIS

Author:

Previous Post
Next Post
September 27, 2009 at 5:03 AM

संवेदनशीलता से ओत प्रोत है आपकी कविता |
बधाई

Reply
avatar
November 11, 2009 at 4:09 PM

मानवीय वेदनाओं संवेदनाओं को दर्शाती सच्ची रचना. बधाई.

Reply
avatar
December 9, 2011 at 4:21 PM

बहुत मार्मिक प्रस्तुति..

Reply
avatar
August 1, 2013 at 2:57 PM

समझ न पाया के बजाय समझ न पाई कर लें। बहुत ही संवेदनशील कविता है।

Reply
avatar
Anonymous
July 10, 2014 at 12:40 AM

This post gives clear idea designed for the new users of blogging,
that really how to do blogging and site-building.

Visit my web page :: Bunion Pain treatment

Reply
avatar