दाम करे सब काम



दाम करे सब काम
पैसा मिलता घोड़ी चलती
पार लगावे नैया
बाप बड़ा न भैया
सबको प्यारा है रुपैया!
मेला लगता उदास
जब पैसा न होता पास
ठन-ठन गोपाल का
कौन करता विश्वास!
वह भला मानस कैसा!
जिसकी जेब में न हो पैसा
कौन बैठता उसके पास
मुखड़ा जिसका दिखता उदास
बिन कर, पग, पर उड़ता-फिरता
अजब- गजब रंग दिखाता है पैसा
कब किस को, कितना उठावे-गिरावे
बिन बोल, सर्वत्र बोल रहा है पैसा!

Kavita Rawat

6 comments :

  1. बहुत अच्छे।
    मानने वाली बात है।

    ReplyDelete
  2. जो सच है, सो है। अब आज की हक़ीक़त तो यही है।

    ReplyDelete
  3. bilkul kharee baat . kya aap Bhagvat Rawat se parichit hai ? yoo hee pooch liya agar janatee hai to bataiyega jaroor .

    ReplyDelete
  4. दाम करे सब काम
    पैसा मिलता घोड़ी चलती
    पार लगावे नैया
    बाप बड़ा न भैया
    सबको प्यारा है रुपैया!

    बहुत खूब ....!!

    ReplyDelete
  5. jeewan kee hakikat ko kish tarh shbdo me dhala hai...

    ReplyDelete

Copyright © KAVITA RAWAT. Made with by OddThemes . Distributed by Weblyb