असहाय वेदना

असहाय वेदना

वो पास खड़ी थी मेरे
दूर कहीं की रहने वाली,
दिखती थी वो मुझको ऐसी
ज्यों मूक खड़ी हो डाली।
पलभर उसके ऊपर उठे नयन
पलभर नीचे थे झपके,
पसीज गया यह मन मेरा
जब आँसू उसके थे टपके।
वीरान दिखती वो इस कदर
ज्यों पतझड़ में रहती डाली,
वो मूक खड़ी थी पास मेरे
दूर कहीं की रहने वाली।।
समझ न पाया मैं दु:ख उसका
जाने वो क्या चाहती थी,
सूनापन दिखता नयनों में
वो पल-पल आँसू बहाती थी।
निरख रही थी सूनी गोद वह
और पसार रही थी निज झोली
जब दु:ख का कारण पूछा मैंने
तब वह तनिक सहमकर बोली-
'छिन चुका था सुहाग मेरा
किन्तु अब पुत्र-वियोग है भारी,
न सुहाग न पुत्र रहा अब
खुशियाँ मिट चुकी है मेरी सारी।'
'असहाय वेदना' थी यह उसकी
गोद हुई थी उसकी खाली,
वो दुखियारी पास खड़ी थी
दूर कहीं की रहने वाली।।

Copyrigt@Kavita Rawat, Bhopal २३ फरवरी २००९
इंसानियत भूल जाते जहाँ

इंसानियत भूल जाते जहाँ

तीज त्यौहार का शुभ अवसर
मंदिर में बारंबार बजती घंटियाँ
फल-फूलों से लकझक सजे देवी-देवता
पूजा-अर्चना हेतु लगी लंबी-लंबी कतारें
रंग-बिरंगे परिधानों में सजेधजे लोग
बड़े मग्न होकर सेवा करते अपने अर्घ्य देवों की
चढ़ाते अनेक पकवान, फल-फूलादि
अपनी-अपनी सामर्थ्यानुसार।
वहीं मंदिर के द्वार पर मुरझाए
सड़े-गले चीथड़ों में लिपटी छोटी-बड़ी जानें
अपनी गिद्ध दृष्टि जमाए बाहर आने वालों पर
कि कहीं कोई मुँह फेर कर सामने से निकल न जाएँ
और वे भगवान के प्रसाद से चूक न जाएँ।
पर जब प्रसाद तक नसीब नहीं होता उन्हें
तो कोसते हैं वे अपने-अपने भाग्य को
और सराहते हैं उन कुत्तों के भाग्य को
जो बेझिझक, बेरोक-टोक उठा ले जाते हैं
चढ़ावा देवी-देवताओं का
सगर्व जैसे अधिकार भाव से
और लाकर पास उनके खाते हैं बड़े चाव से
मजाल क्या उनकी जो छीन लें वे उन्हीं से!
जब देखते हैं वे उन्हें अपनी भुखमरी निगाहों से
तो वे भी घूरते हैं उन्हें जैसी निकृष्ट दृष्टि से
और फिर जैसे घुड़ककर खबरदार करते हुए
उन्हें बताना चाहते हैं-
कि तुम इंसान होकर भी इतने गए गुज़रे हो गए हो
कि जो भीख माँगने भगवान के द्वार तक चले आते हो
अरे कौन इंसान तुम्हें भला भीख देगा वहाँ
करके भगवान की पूजा इंसानियत भूल जाते जहाँ!

Copyright@Kavita Rawat, Bhopal, २३ फरवरी २००९
लाख बहाने

लाख बहाने

लाख बहाने पास हमारे
सच भूल, झूठ का फैला हर तरफ़ रोग,
जितने रंग न बदलता गिरगिट
उतने रंग बदलते लोग।

नहीं पता कब किसको
किसके आगे रोना-झुकना है,
इस रंग बदलती दुनिया में
कब कितना जीना-मरना है।

नहीं अगर कुछ पास तुम्हारे, तो देखो!
कोई कितना अपना-अपना रह पाता है,
अपनों की भीड़ में तन्हा आदमी
न रो पाता न हँस पाता है।

फेहरिस्त लम्बी है अपनों की
हैं इसका सबको बहुत खूब पता,
पर जब ढूँढ़ो वक्त पर इनको
तो होगा न कहीं अता-पता
होगा न कहीं अता-पता

Copyright@Kavita Rawat, Bhopal
इससे पहले कि

इससे पहले कि

इससे पहले कि कोई आप से तुम और तुम से तू पर आकर
अपनी कोई दिल बहलाने की चीज़ समझ बैठे
संभल जाना
इससे पहले कि कोई अपनी मीठी बातों में उलझा कर
गलत राह पर चलने को मजबूर करने लगे
नीयत समझ लेना
इससे पहले कि कोई घर में गलत इरादों से घुसकर
आपस में फूट डालने की बातें करने लगे
परख कर देखना
इससे पहले कि घर में कोई भेदिया बनकर घुस जाय
सूझ-बूझ से काम लेना
इससे पहले कि किसी की कोई बात बुरी लगने लगे
बातों पर अपनी ध्यान देना
इससे पहले कि कोई अपमान करने पर तुल जाय
सबका मान रखना
इससे पहले कि कोई टाइम पास पीस समझ बैठे
समय देख चलना
इससे पहले कि कोई परिवार से अलग करने कि सोचे
परिवार पर ध्यान देना
इससे पहले कि हर कोई कतरा के चलने लगे
अभिमान न करना
इससे पहले कि भीड़ का हिस्सा मात्र बन बैठे
अलग पहचान रखना
इससे पहले कि जिंदगी उलझनों से घिर जाय
जिंदगी आसान रखना
इससे पहले कि कोई नफरत भरी निगाहों से देखें
संभल कर चलना
इससे पहले कि कोई मंजिल की राह से भटका दे
आंखे खुली रखना
इससे पहले कि दुनिया में कहीं बदनाम न हो जायं
हरतरफ नज़र रखना
इससे पहले कि कभी अपनी ही नज़रों में गिर जायं
फ़ूक-फूक कर कदम रखना

         आज जहाँ लोग कहते हैं की समय नहीं मिल पाता है वहीँ यह भी देखा जाता है कि लोग किस तरह से अपना टाइम पास करते रहते हैं। अपने परिवार वालों के लिए भले ही समय न हो लेकिन बाहर घंटों मोबाइल या फ़ोन पर बतियाते फिरते है, इतना कि आस पास कि सुध भी नहीं रहती है. इन्टरनेट को ही ले लीजिये इसमें इतनी अच्छी जानकारी होने के बाद भी आज की युवा पीढ़ी जिस तरह से अपना समय आपस में बर्बाद करते दिखते हैं, उससे उनकी सोच कुंद होती दिखाई देती है. जिस तरह से इन्टरनेट का दुरपयोग हो रहा है, यह देखकर दुःख होता है कि क्यूँ कोई अपना कीमती समय फालतू कामों या बातों में लगाकर कहता है कि समय नहीं मिलता, जबकि सत्य तो यही है कि ऐसे लोगों के पास वास्तव में अच्छे कामों के लिए समय कि कमी है. जरा अगर अपने घर परिवार, अपने बारे मैं कभी गौर से देखें तो उन्हें पीछे पछताने कि जरुरत नहीं होगी, बस इससे पहले उन्हें अपना मूल्यांकन खुद करना होगा कि उन्हें क्या करना चाहिए और वे क्या कर रहे हैं. इसी सन्दर्भ में कविता प्रस्तुत हैं.

Copyright @Kavita Rawat, Bhopal, 25 Aug, 2009
समय

समय

पंख होते हैं समय के
पंख लगाकर उड़ जाता है
पर छाया पीछे छोड़ जाता है
भरोसा नहीं समय का
न कुछ बोलता न दुआ सलाम करता है
सबको अपने आगे झुकाकर
चमत्कार दिखाता है
बड़ा सयाना है समय
हर गुथी यही सुलझाता है
बात मानो समय की
हर घाव पर मरहम यही लगाता है
सर्वोत्तम चिकित्सक भी यही है
मगर हर शक्ल भी बिगाड़ देता है
यह ऐसा ऋण है
जिसे कोई नहीं चुका पाता है
समय नहीं झुकता किसी के आगे
आगे इसके सबको झुकना पड़ता है
ये दुनिया समझो साथ उसी की
जो समय देखकर चलता है

Copyright @Kavita Rawat, Bhopal,2009