ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, April 23, 2010

मत भरो शूलों से दामन अपना


कभी वक्त ने करके मजबूर जिन्हें कर दिया जुदा
गुजरे पलों को जिसने ख़ामोशी से दिल में सहेज लिया
उनसे ही सीखा सबक प्यार का दुनिया वालों ने
जिसने जिंदगी में वक्त नहीं वक्त में जिंदगी देख लिया

दुनिया में ऐसे लोग बहुत कम मिलते हैं
जो दर्द पराया पर अपना समझ लेते हैं
जो जुदा हुए दिलों के दास्ताँ सुनते हैं
वे ही भीड़ में अक्सर अलग दिखते हैं

..................................

मत भरो शूलों से दामन अपना
जिंदगी के गुलशन में फूल भी खिलते हैं
बाजी हारते-हारते जो जीत जाय
वे बड़े खुशनसीब वाले रहते हैं !
कर्त्तव्य की जंजीरों से जकड़ी मैं
भला तुम्हें क्या दे सकती हूँ
अधिकार नहीं जब मेरा तुम पर
तो तुम्हारी खुशियाँ कैसे ले सकती हूँ?
सपनों का महल संजोया था मैंने
पर वह रेत की दीवार सा ढह गया
दिल था नाजुक दर्पण मेरा
बिंध जाने से चकनाचूर हुआ !
खिड़की-दरवाजे बंद कर लेते लोग
आया कोई तूफां धरा पर जब-जब
एक तुम थे जो पराई खिड़की-दरवाजे
बंद करने घर से निकले तब-तब!
किसे सुकूं मिल पाया जिंदगी में भला
अनजानों की बस्ती में भटक कर
कहाँ कोई खुश रह पाया है कहीं
अपनों  का प्यारभरा दिल दु:खाकर!
अरमानभरी गठरी बंधी तो थी
मगर लगी ठोकर वह बिखर गई
बच निकली जो स्मृतियाँ मुर्दा सी
वह भी ख़ामोशी में दफ़न हुई!
स्मृतियों का कितना बड़ा भंडार होगा
जो भर देते हैं एलबम अपनी तस्वीरों से
पर स्मृतियाँ चौखट पर रख बदनसीब
अक्सर खेलते हैं अपने तकदीरों से!
चाहकर भी बृक्ष की शीतल छाया
कभी राहगीर के संग नहीं जा पाई है
है प्रकृति का निराला दस्तूर यही
वह उसी से बंधकर रह गई है !
चलो अब लौट चलें अपनी दुनिया में
जो गुजरा उसका भला पछताना क्या?
बोझिल कदम बढ़ न सके जिस गाँव तक
अब उस गाँव के कोस गिनकर होगा क्या?

               ...कविता रावत

Friday, April 16, 2010

हरपल तेरी चाहत बनी रहूँ


जब भी तुम्हारा ख्याल आता है
दिल में मीठा सा दर्द उठता है
और तुम उतरने लगते हो दिल में
गहरे, अति गहरे रंग के तरह
जो जमकर उतरता नहीं
तुम वही रंग मुझे लगते हो
जो मुझमें समाये दिखते हो
जब भी दिल की धड़कन बढ़ती हैं
लगता है जैसे महसूस कर तुम्हें करीब
वे डूबकर प्यारभरी बातें करती हैं
तुम्हारा दिल भी तो धड़कता होगा
बन धड़कन प्यार की करीब आता होगा
फिर प्यारभरी बस्ती में दौड़-घूमकर
कोई खूबसूरत तराना सुनाता होगा
'यूँ ही प्यार में डूबा रहूँ' कहता होगा
तुमको सोच-सोच बुनती हूँ प्रेमरंग-तरंग
नवगीत बन होठों पर सजती रहूँ
बस आरजू है रमकर प्रेमधुन में
हरपल तेरी चाहत बनी रहूँ

      .....कविता रावत

Friday, April 9, 2010

तनिक सी आहट












तनिक सी आहट होती
चौंक उठता आतुर मन
जैसे आ गए वे
जिसका रहता है
दिल को अक्सर
इन्तजार
हर बार
बार-बार
बार-बार.

वे दिल के करीब रहकर भी
कभी-कभी जाने क्यों?
दूर दूर नज़र आते हैं
अपनों के बीच रहकर
कभी-कभी जाने क्यों?
अजनबी से दिखते हैं
यह देख उठती दिल में
गहरी टीस
अति धारदार
हर बार
बार-बार
बार-बार.

गुजरे करीब से जब भी वे
तन-मन में सिहरन सी उठती है
थोड़ी सी निगाह पड़ी जब भी
सीधे दिल पर वार करती है
पागल मन बुनता सप्तरंगी सपने
भागता पीछे-पीछे
और फिर बहती प्रेमनद
बन अति तीव्रधार
हर बार
बार-बार
बार-बार.

-कविता रावत

Thursday, April 1, 2010

कड़ाके की घूप में


मैंने देखा है अक्सर
कच्ची कलियों को चटकते हुए
कड़ाके की घूप में
कुछ कलियों को देखा है
खिलखिलाते हुए
बेमौसम में!
वे कलियाँ जो भ्रमित होकर
अपने को पूर्ण खिला
समझ बैठती है
पड़ जाती है
कुछ असामाजिक तत्वों के हाथ
उनका इस कदर खिल जाना
बन जाता है अभिशाप
दूसरी कलियों के लिए भी
फलस्वरूप वे भी
तनिक ताप से ही
मुरझाने लगती हैं
न रसयुक्त
न सुगंधयुक्त
और न आकर्षक ही बन पाती हैं
उनमें व्यर्थ का विखराव
नज़र आता है
जो न किसी के
मन भाता न रमता है
भले ही ये खिले-खिले दिखें
किन्तु बेरुखे, बेजान बन जाते हैं
एक हल्का हवा का झौंका
गुजरे जब भी पास इनके
ये पतझड़ सा गिरते हैं
फिर गिरकर
पददलित
उपेक्षित बन जाती हैं
न हार बनकर
किसी के गले में सज पाती हैं
और न कभी कहीं
पूजा के ही काम आती हैं

                -कविता रावत