ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, April 9, 2010

तनिक सी आहट












तनिक सी आहट होती
चौंक उठता आतुर मन
जैसे आ गए वे
जिसका रहता है
दिल को अक्सर
इन्तजार
हर बार
बार-बार
बार-बार.

वे दिल के करीब रहकर भी
कभी-कभी जाने क्यों?
दूर दूर नज़र आते हैं
अपनों के बीच रहकर
कभी-कभी जाने क्यों?
अजनबी से दिखते हैं
यह देख उठती दिल में
गहरी टीस
अति धारदार
हर बार
बार-बार
बार-बार.

गुजरे करीब से जब भी वे
तन-मन में सिहरन सी उठती है
थोड़ी सी निगाह पड़ी जब भी
सीधे दिल पर वार करती है
पागल मन बुनता सप्तरंगी सपने
भागता पीछे-पीछे
और फिर बहती प्रेमनद
बन अति तीव्रधार
हर बार
बार-बार
बार-बार.

-कविता रावत

25 comments:

  1. naya rang liye ye rachana pyaree lagee............meethe se ahsaas kee chubhan jiye.........

    ReplyDelete
  2. दिल के करीब रहकर भी
    कभी-कभी जाने क्यों?
    दूर दूर नज़र आते हैं
    अपनों के बीच रहकर
    कभी-कभी जाने क्यों?
    अजनबी से दिखते हैं
    ....bahut sundar rachna.

    ReplyDelete
  3. पागल मन बुनता सप्तरंगी सपने
    भागता पीछे-पीछे
    और फिर बहती प्रेमनद
    बन अति तीव्रधार...
    दिल के करीब रहकर दूर रहने वाले ....
    अपनों के करीब रहकर अजनबी रहने वाले
    यही तो है रिश्तों की मायानगरी ...
    अच्छी कविता ...!!

    ReplyDelete
  4. कविता सिर्फ महसूस की जा सकती है । इस कविता को मस्तिस्क से न पढ़कर बोध के स्तर पर पढ़ना जरूरी है।

    ReplyDelete
  5. मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है....बहुत खूबसूरत रचना...बधाई

    ReplyDelete
  6. गुजरे करीब से जब भी वे
    तन-मन में सिहरन सी उठती है
    थोड़ी सी निगाह पड़ी जब भी
    सीधे दिल पर वार करती है
    पागल मन बुनता सप्तरंगी सपने
    अनछुए अहसास लिए हुए सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  7. तनिक सी आहट होती
    चौंक उठता आतुर मन
    जैसे आ गए वे
    जिसका रहता है
    दिल को अक्सर

    ,,,,,,,,अच्छी कविता ...!!

    ReplyDelete
  8. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया,
    बड़ी खूबसूरती से कही अपनी बात आपने.....

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  10. सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।

    ReplyDelete
  11. अपनों के बीच रहकर
    कभी-कभी जाने क्यों?
    अजनबी से दिखते हैं
    ye hui shaandaar rachna, shaandaar abhivyakti

    ReplyDelete
  12. अच्छी रचना...बधाई

    ReplyDelete
  13. मनोभावो को बखुबी बाँधा है।

    ReplyDelete
  14. रिस्तों की उधेड़बुन ऐसी ही होती है ... कभी कुछ तो कभी कुछ ...
    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति है ...

    ReplyDelete
  15. सुन्दर ,सरल शब्दों के माध्यम से गहन बात कह दी है ..ऐसी उलझन अक्सर सभी को होती होगी.

    ReplyDelete
  16. ...बहुत सुन्दर, प्रसंशनीय रचना!!!

    ReplyDelete
  17. गुजरे करीब से जब भी वे
    तन-मन में सिहरन सी उठती है
    थोड़ी सी निगाह पड़ी जब भी
    सीधे दिल पर वार करती है
    पागल मन बुनता सप्तरंगी सपने
    भागता पीछे-पीछे
    और फिर बहती प्रेमनद
    बन अति तीव्रधार
    हर बार
    बार-बार
    बहुत अच्छी प्रस्तुति संवेदनशील हृदयस्पर्शी मन के भावों को बहुत गहराई से लिखा है

    ReplyDelete
  18. kavita ji ,

    bahut hi sanvedansheel rachna . man ke bheetar kahin chooti hui ... aur na jaane kitne saare shabdo ke ahsaas ko gunjan deti hui ....
    aabhar aapka

    vijay

    ReplyDelete
  19. आपकी दोनों नई रचनाओं और ४-५ महीने पहले की रचनाओं में मुझे तो हर द्रष्टिकोण से बहुत ज्यादा फर्क नजर आ रहा है - हार्दिक शुभकामनाएं - keep it up.

    ReplyDelete
  20. Komal bhavanaon kee bahut sundar aur sahaj prastuti---badhiya kavita----.

    ReplyDelete
  21. कुछ अलग हठ कर है यह रचना, शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  22. वे दिल के करीब रहकर भी
    कभी-कभी जाने क्यों?
    दूर दूर नज़र आते हैं
    अपनों के बीच रहकर
    कभी-कभी जाने क्यों?
    अजनबी से दिखते हैं
    यह देख उठती दिल में
    गहरी टीस
    अति धारदार
    हर बार
    बार-बार
    बार-बार.
    ati uttam ,behad khoobsurat

    ReplyDelete
  23. अलग सी शैली की रचना. कुछ कुछ ध्वन्यात्मक भी

    ReplyDelete
  24. तनिक सी आहट होती
    चौंक उठता आतुर मन
    जैसे आ गए वे
    जिसका रहता है
    दिल को अक्सर
    इन्तजार
    हर बार
    बार-बार
    बार-बार.
    Wo aaye?
    Sadhuwad!

    ReplyDelete