अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है....

जहाँ उत्कृष्टता पाई जाती है वहाँ अभिमान आ जाता है।
अभिमान आदमी की अपनी त्रुटियों का मुखौटा होता है।।

बन्दर के हाथ हल्दी की गांठ लगी वह पंसारी बन बैठा।
अंधे के पांव तले बटेर आया वह शिकारी बन बैठा ।।

बन्दर बहुत ऊँचा चढ़ने पर अपनी दुम ज्यादा दिखाता है ।
ऊँची डींग हांकने वाला कभी कुछ करके नहीं दिखाता है ।

बन्दर को अधिकार मिला वह नदी प्रवाह के विरुद्ध तैरने चला ।
गधा पहाड़ पर क्या चढ़ा वह पहाड़ को छोटा समझने लगा ।।

अंडे से निकला चूज़ा वह उसे ही हिकारत से देखने चला।
वह घोड़े पर क्या सवार हुआ बाप पहचानना भूल गया ।।

पतन से पहले इंसान में मिथ्या अभिमान आ जाता है ।
जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है।।

अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है।
आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है ।।


....कविता रावत

72 comments :

  1. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है
    Badee pate kee baat kahee hai!

    ReplyDelete
  2. कविता का संदेश प्रेरक है। जैसे अहंभाव से घमण्ड पैदा होता है वैसे ही विभ्रम मोह का परिणाम है।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढि़या ...प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  4. अभिमान ही पतन का कारण होता है

    ReplyDelete
  5. आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है
    sarvsaty.........
    bahut sundar prernadayi rachna..

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा व्यंग्य लिए रचना ।


    अपने विचारों से अवगत कराएँ !
    अच्छा ठीक है -2

    ReplyDelete
  7. अभिमान ही जड़ है समस्त समस्यायों की...

    ReplyDelete
  8. पतन से पहले इंसान में मिथ्या अभिमान आ जाता है
    जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है
    ..बिंदास रचना ..

    ReplyDelete
  9. फल भरी डाल सदा ही झुक जाती है।

    ReplyDelete
  10. गहरा व्‍यंग्‍य।
    मौजूदा दौर में प्रासंगिक रचना।

    ReplyDelete
  11. बन्दर के हाथ हल्दी की गांठ लगी वह पंसारी बन बैठा
    अंधे के पांव तले बटेर आया वह शिकारी बन बैठा ........................... बुद्धि और प्रेम कभी बर्बाद नहीं करते . अभिमान तो बस अधजल गगरी के समान है

    ReplyDelete
  12. पतन से पहले इंसान में मिथ्या अभिमान आ जाता है
    जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है
    अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है

    .........
    aapne to kamal ki baat kahi di ...aaj jameenon aur kamino ka hi jamana hai ..
    sadar prastut

    ReplyDelete
  13. बन्दर के हाथ हल्दी की गांठ लगी वह पंसारी बन बैठा
    अंधे के पांव तले बटेर आया वह शिकारी बन बैठा
    बन्दर बहुत ऊँचा चढ़ने पर अपनी दुम ज्यादा दिखाता है
    ऊँची डींग हांकने वाला कभी कुछ करके नहीं दिखाता है
    .....
    बन्दर राज और बन्दर बाँट ही आजकल जोर शोर से चल रहा है और दुम दिखाने वाले बंदरों की देश में कोई कमी नहीं लेकिन दुम खींचने की फौज भी कुछ कम नहीं...
    व्यवस्था पर सटीक कथन ... बहुत आभार

    ReplyDelete
  14. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की जा रही है! सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  15. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है

    ReplyDelete
  16. वाह --कविता और कहावतें ।
    बहुत सुन्दर समागम है ।

    ReplyDelete
  17. Waah! Bahut kaam ki batein kahin aapne...

    ReplyDelete
  18. "घमंडी का सर नीचा "यह कहावत हैं भी याद है

    ReplyDelete
  19. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  20. वह बहुत ही बढ़िया प्रस्तुति मेरा ऐसा मानना है कि भगवान ने घमंड तो राजा रावण का नहीं रखा तो यह इंसान क्या चीज़ है। मगर आपका लिखा भी बहुत खूब और सटीक है कि आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है।
    समय मिले कभी तो आयेगा ज़रूर मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete





  21. आदरणीया कविता रावत जी
    सादर प्रणाम !

    जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है
    :)
    क्या बात है !

    # अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है
    रचना की सबसे ख़ूबसूरत पंक्ति !

    प्रेरक विचारों की प्रस्तुति के लिए आभार !

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  22. बन्दर के हाथ हल्दी की गांठ लगी वह पंसारी बन बैठा
    ऐसे पंसारी आज तो हर ओर विद्यमान हैं
    सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  23. अभिमान ऐसा फूल है जो शैतान की बगिया में उगता है....
    वाह! वाह! अलग अंदाज की सार्थक रचना...
    सादर...

    ReplyDelete
  24. आदमी प्रेम से नहीं
    मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है ...
    बिलकुल सही कहा ....बधाई

    ReplyDelete
  25. कविता के तेवर काबिले तारीफ हैं।

    ReplyDelete
  26. सूक्तियों की नव-प्रस्तुति रोचक लगी!!

    ReplyDelete
  27. कविता जी जी
    सुन्दर भाव
    अभिमान आदमी की अपनी त्रुटियों का मुखौटा होता है
    अशोक कुमार शुक्ला
    स्व0 अमृता प्रीतम जी के निवास के25 हौज खास को बचाकर उसे राष्ट्रीय धरोहर के रूप में संजोने के लिये अनेक साहित्य प्रेमियों द्वारा माननीय राष्ट्रपति भारतीय गणराज्य एवं दिल्ली सरकार से अनुरोध किया है। ऐसा विश्वास है कि इस मुहिम का असर अवश्य ही होगा । फिलहाल इस मुहिम में शामिल लोगों के प्रयासों का हाल लिंक के रूप में आप सबके साथ साझा कर रहा हूँ साथ ही यह भी उम्मीद करूँगा कि आप भी अपना अमूल्य सहयोग देकर इस मुहिम को आगे बढाते हुये महामहिम से इस प्रकरण में हस्तक्षेप का अनुरोध अवश्य करेंगें। कृपया एक पहल आप भी अवश्य करें यहाँ महामहिम राष्ट्रपति जी का लिंक यहां है ।!!!!

    ReplyDelete
  28. कविता जी ..बहुत ही सही लिखा है आपने....शानदार।

    ReplyDelete
  29. ना था कुछ तो ख़ुदा था...कुछ ना होता तो ख़ुदा होता...
    डुबोया मुझको होने ने...न होता गर तो क्या होता...

    अभिमान मिथ्या है...अगर बच सको...

    ReplyDelete
  30. अभिमानी लोग अपना प्रभाव खो बैठते हैं !
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete
  31. सभी पंक्तियाँ हकीकत से रूबरू कराती हुई !
    बहुत सुन्दर ...
    बधाई !

    ReplyDelete
  32. सच्ची बात सुनता कौन है
    पढते सब हैं ,मानता कौन है ...? ईमानदारी भरा प्रयास ?
    शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  33. सही आंकलन,इंसानी फ़ितरत का.

    ReplyDelete
  34. aapne sahee likhaa hai


    मेरी "मैं" ने
    मुझ को मारा
    ख्याल करो
    तुम्हारी "मैं"
    तुम्हें मारेगी
    bas itnaa saa dhyaan kar lo

    ReplyDelete
  35. अंडे से निकला चूज़ा वह उसे ही हिकारत से देखने चला!
    वह घोड़े पर क्या सवार हुआ बाप पहचानना भूल गया !!

    ..आजकल यही हालात हरतरफ नज़र आते है.....

    पतन से पहले इंसान में मिथ्या अभिमान आ जाता है !
    जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है!!
    ...सही कहा ..बहुत ऊँचे है आज के समय में जमीनों और कमीनो के भाव.. और बढ़ते ही जा रहे है.....
    सुन्दर रचना ..

    ReplyDelete
  36. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!
    ..बहुत दूर और बड़े पते के बात....

    ReplyDelete
  37. सच है ये अभीमान पतन से पहले अपने शबाब पर होता है.....बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  38. sahee likhaa hai aapne
    saaree samasyaaon kee jad hai "main" "aham" ,

    मेरी "मैं" ने
    मुझ को मारा
    ख्याल करो
    तुम्हारी "मैं"
    तुम्हें मारेगी

    ReplyDelete
  39. जहाँ उत्कृष्टता पाई जाती है वहाँ अभिमान आ जाता है!
    अभिमान आदमी की अपनी त्रुटियों का मुखौटा होता है!!
    अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है
    दूर की कौड़ियाँ समेट ली!!

    ReplyDelete
  40. बहुत सुन्दर बेजोड़ रचना..
    लोकोक्तियों का कविता के माध्यम से अनुपम उपहार ...
    बहुत आभार!!!

    ReplyDelete
  41. आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  42. अच्छी लगी रचना..

    ReplyDelete
  43. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!

    सार्थक सन्देश देती अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  44. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!

    बहुत सुन्दर रचना..
    लोकोक्तियों के माध्यम से बहुत अच्छा सन्देश दिया है आपने...

    ReplyDelete
  45. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!

    ..बहुत बढ़िया सन्देश दिया है ..

    ReplyDelete
  46. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!

    सुंदर रचना के माध्यम से अच्छा सन्देश.

    ReplyDelete
  47. जी ऐसा व्यंग कभी कभी ही पढने को मिलता है।
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  48. ऊँची डींग हांकने वाला कभी कुछ करके नहीं दिखाता है !
    बिल्कुल सही कहा है आपने ! बहुत ही सुन्दर, सटीक और सार्थक प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  49. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!

    ...बहुत सटीक और प्रेरक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  50. सार्थक सन्देश देती अच्छी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  51. सुन्दर रचना !!
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए
    manojbijnori12 .blogspot .कॉम

    अगर पोस्ट सही लगे तो फोलोवर बनकर हमको मार्गदर्शित करे और हमारा उत्साह बढाए .

    ReplyDelete
  52. रावत जी आप की शुरुवाती और अंतिम कड़ी में बहुत दम है ! बिलकुल सच !सुन्दर व्यवहार ! बहुत बधाई

    ReplyDelete
  53. सुन्दर बहुत सटीक और प्रेरक प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  54. सार्थक सन्देश देती अच्छी प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  55. पतन से पहले इंसान में मिथ्या अभिमान आ जाता है !
    जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है!!
    बहुत सटीक रचना

    ReplyDelete
  56. आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है..
    सच..सुन्दर सच और खरी बात..

    ReplyDelete
  57. दमदार सार्थक सन्देश देती सुंदर रचना बहुत अच्छी लगी..
    बेहतरीन पोस्ट
    मेरे नए पोस्ट पर आइये स्वागत है ...

    ReplyDelete
  58. Hi..

    Pichhle kai maheene daure main guzrr. Ab main punah lauta hun to aapki yah kavita padhi..

    Kavita kya lokoktiyon aur muhavaron ka sarthak sammishran kar aapne vyakti ke aham ka vishleshan kiya hai..

    Nisandeh aapki kavita prashansneey aur prerak hai..yah kavita apne table par sheeshe ke neeche rakhne layak hai..

    Aapka dhanyawad ki aapne hame humare aham ka parichay karaya..

    Deepak Shukla..

    ReplyDelete
  59. अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!
    .....
    very very nice
    ..

    ReplyDelete
  60. जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है!!
    अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !

    PRATYEK PANKTI EK SOOTRA KI TARAH JEEVNOPYOGI HAI.

    ReplyDelete
  61. पतन से पहले इंसान में मिथ्या अभिमान आ जाता है !
    जमीनों और कमीनों का भाव कभी कम नहीं होता है!!
    अभिमान ऐसा फूल जो शैतान की बगिया में उगता है!
    आदमी प्रेम से नहीं मिथ्या अभिमान से बर्बाद होता है !!

    सच..सुन्दर सच और खरी बात..............
    सटीक रचना

    ReplyDelete
  62. बहुत ही बढि़या ...प्रेरणात्‍मक प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  63. आदरणीया कविता रावत जी को वैवाहिक वर्षगांठ की हार्दिक बधाइयाँ...!

    ReplyDelete
  64. कविता जी ,आपकी यह कविता कर रही है कमाल
    धोती को फाड फाड बना रही है सुन्दर रूमाल
    अभिमान का भी ऐसा ही हश्र होना चाहिये.
    नित गलाते जाएँ अंत जो हो वह सुखद होना चाहिये.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    वैवाहिक वर्षगाँठ की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  65. कविता जी,मेरे ब्लॉग पर आपका इंतजार है.
    हनुमान लीला पर अपने अमूल्य विचार और
    अनुभव प्रस्तुत कर अनुग्रहित कीजियेगा.

    ReplyDelete
  66. आपको बहुत-बहुत बधाई!
    हमारे साथ यह घटना 5 दिसम्बर को हुई थी!

    ReplyDelete
  67. बहुत ही बढि़या

    ReplyDelete

Copyright © KAVITA RAWAT. Made with by OddThemes . Distributed by Weblyb