नए साल के लिए कुछ जरूरी सबक - KAVITA RAWAT

Wednesday, December 31, 2014

नए साल के लिए कुछ जरूरी सबक


उठिए - जल्दी घर के सारे, घर में होंगे पौबारे
लगाइए - सवेरे मंजन, रात को अंजन
नहाइए - पहले सिर, हाथ-पैर फिर
पीजिए - दूध खड़े होकर, दवा-पानी बैठकर
खिलाइए - आए को रोटी, चाहे पतली हो या मोटी
पिलाइए  - प्यासे को पानी, चाहे कुछ होवे हानि
छोडि़ए    - अमूचर की खटाई, रोज की मिठाई
कीजिए - आये का मान, जाते का सम्मान
जाइए - दुःख में पहले, सुख में पीछे
बोलिए - कम से कम, दिखाओ ज्यादा दम
देखिए - माँ का ममत्व, पत्नी का धर्म
भगाइए   - मन के डर को, बूढे़ वर को
खाइए - दाल-रोटी-चटनी, कितनी भी कमाई हो अपनी
धोइए - दिल की कालिख को, कुटुम्ब के दाग को
सोचिए - एकांत में, करो सबके सामने
चलिए - अगाड़ी, ध्यान रहे पिछाड़ी
बोलिए   - जुबान संभालकर, थोड़ा बहुत पहचानकर
सुनिए  - पहले पराये की, फिर अपनों की
रखिए - याद कर्ज चुकाने की, मर्ज को मिटाने की
भूलिए     -  अपनी बड़ाई को, दूसरे की भलाई को
छिपाइए  - उम्र और कमाई, चाहे पूछे सगा भाई
लीजिए - जिम्मेदारी उतनी, संभाल सको जितनी
रखिए -  चीज़ जगह पर, जो मिले समय पर


30 comments:

  1. बहुत बढ़िया...नववर्ष की बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  2. एक से बढ़कर एक सबक ...
    नए साल की हार्दिक बधाई!

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष पे इतना सब कुछ ...
    आपको और परिवार में सभी को नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर शब्द जाल। आपको भी हार्दिक शुभकामनाये , कविता जी !

    ReplyDelete
  5. वाह ! सुन्दर सीख - विचार .आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  6. नए साल के लिए सुन्दर सबक ...
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया सीख ......
    नव वर्ष की हार्दिक बधाई !

    ReplyDelete
  8. वाह! बड़े जरुरी सबक ....
    नया साल मुबारक हो!!!!

    ReplyDelete
  9. अच्छे टिप्स दिए आपने नए साल के लिए ................................
    आपको और परिवार के सभी लोगों को नव वर्ष की लख लख हार्दिक बधाइयां...

    ReplyDelete
  10. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक चर्चा मंच पर वर्ष २०१५ की प्रथम चर्चा में दिया गया है
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ

    ReplyDelete
  11. आपको नव वर्ष 2015 सपरिवार शुभ एवं मंगलमय हो।

    कल 01/जनवरी/2015 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर.

    जो दर्द भरा था बीत गया उसको क्यों याद किया जाए
    सचमुच त्यौहार ही जीवन है ये त्यौहार जिया जाए
    जाने वाला वश में न था आने वाला तो वश में हो
    है नया वर्ष आने वाला सबको सुख और प्रेम दिया जाए

    ................आने वाले वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर सीख |नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं |
    : नव वर्ष २०१५

    ReplyDelete
  14. सुन्दर सीख आपको भी नववर्ष की बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  15. नववर्ष पर नयी सीख। ऩव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  16. नए साल की नयी सीख......
    नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  17. नव वर्ष मंगलमय हो!

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया। आपको भी अनेको शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  19. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    नव वर्ष-2015 आपके जीवन में
    ढेर सारी खुशियों के लेकर आये
    इसी कामना के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  20. सुंदर और उपयोगी सबक....सुख-शान्ति, समृद्धि, प्रसन्नता, सफ़लता एवं आरोग्य की मंगलकामनाओं के साथ नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!!!

    ReplyDelete
  21. आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  22. अच्छा सबक दिया है आपने .
    नववर्ष की बधाई.

    ReplyDelete
  23. पूरा साल निकल जाएगा इनको साधने में कविता जी!!
    बहुत अच्छे!!

    ReplyDelete
  24. अच्छा सबक दिया आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर सीख...शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर, आपको सपरिवार नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर आदरणीया कविता जी! साभार!
    धरती की गोद

    ReplyDelete