ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, August 14, 2015

हिन्द देश का प्यारा झंडा


हिन्द देश का प्यारा झंडा ऊँचा सदा रहेगा
तूफान और बादलों से भी नहीं झुकेगा
नहीं झुकेगा, नहीं झुकेगा, झंडा नहीं झुकेगा
हिन्द देश का प्यारा ..........................

केसरिया बल भरने वाला सदा है सच्चाई
हरा रंग है हरी हमारी धरती है अँगड़ाई
कहता है यह चक्र हमारा कदम कभी नहीं रुकेगा
हिहिन्द देश का प्यारा ..........................

शान नहीं ये झंडा है ये अरमान हमारा
ये बल पौरुष है सदियों का ये बलिदान हमारा
आसमान में फहराए या सागर में लहराए
जहाँ-जहाँ ये झंडा जाए यह सन्देश सुनाए
है आज़ाद हिन्द ये दुनिया को आज़ाद करेगा
हिन्द देश का प्यारा ..........................

नहीं चाहते हम दुनिया को अपना दास बनाना
नहीं चाहते हम औरों के मुँह की रोटी खा जाना
सत्य न्याय के लिए हमारा लहू सदा बहेगा
हिन्द देश का प्यारा ..........................

हम कितने सुख सपने लेकर इसको फहराते हैं
इस झंडे पर मर मिटने की कसम सभी खाते हैं
हिन्द देश का यह झंडा घर-घर में लहराएगा
हिन्द देश का प्यारा ..........................
                                                       - अज्ञात 

24 comments:

  1. देश भक्ति से ओतप्रोत अच्छी रचना।

    ReplyDelete
  2. जहाँ-जहाँ ये झंडा जाए यह सन्देश सुनाए
    है आज़ाद हिन्द ये दुनिया को आज़ाद करेगा
    हिन्द देश का प्यारा ........................

    jai hind

    ReplyDelete
  3. केसरिया बल भरने वाला सदा है सच्चाई
    हरा रंग है हरी हमारी धरती है अँगड़ाई
    कहता है यह चक्र हमारा कदम कभी नहीं रुकेगा
    हिन्द देश का प्यारा ..........................

    ReplyDelete
  4. सुन्दर ध्वज गान
    जय हिन्द जय भारत

    ReplyDelete
  5. सारे जहाँ से अच्छा हिंदोस्ता हमारा

    ReplyDelete
  6. हम कितने सुख सपने लेकर इसको फहराते हैं
    इस झंडे पर मर मिटने की कसम सभी खाते हैं
    हिन्द देश का यह झंडा घर-घर में लहराएगा

    ReplyDelete
  7. ...बहुत सुंदर, जय हिन्द...

    ReplyDelete
  8. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (15-08-2015) को "राष्ट्रभक्ति - देशभक्ति का दिन है पन्द्रह अगस्त" (चर्चा अंक-2068) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    स्वतन्त्रतादिवस की पूर्वसंध्या पर
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. देशभक्ति के रस से सराबोर सुंदर गीत. शुभकामनायें स्वतंत्रता दिवस पर.

    ReplyDelete
  10. देश भक्ति का सुंदर गीत । स्वतंत्रता दिवस पर शुभकामनाय।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर रचना1 कल भी आयी थी तभी कम्प्यूटर मे प्राब्लम आ गयी1

    ReplyDelete
  12. सुंदर गीत! शुभकामनाएं स्वतंत्रता दिवस के निमित्त!

    ReplyDelete
  13. सुंदर गीत! शुभकामनाएं स्वतंत्रता दिवस के निमित्त!

    ReplyDelete
  14. HAPPY INDEPENDENCE DAY
    सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार...

    ReplyDelete
  15. बहुत सटीक और प्रभावी अभिव्यक्ति. आज़ादी का दिन मुबारक

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर रचना, देशप्रेम से सराबोर. स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  17. आप की लिखी ये रचना....
    16/08/2015 को लिंक की जाएगी...
    http://www.halchalwith5links.blogspot.com पर....


    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर शब्द रचना.....स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  19. देश भक्ति के भावों से सराबोर बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...जय हिन्द

    ReplyDelete
  20. देश-प्रेम से ओतप्रोत अभिनव ध्वज-गान ।
    शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  21. झंडे के माध्यम से पूरे देश की संस्कृति का ढांचा खडा कर दिया आपने ... अपने महान देश की परम्पराएँ, विचार इस झंडे में हो तो समाये हैं ...
    बहुत ही लाजवाब गीत है ... दिल को छूता हुआ ... गर्व का एहसास कराता ...

    ReplyDelete
  22. , देशप्रेम से सराबोर

    ReplyDelete
  23. वाह बेहतरीन रचनाओं का संगम।एक से बढ़कर एक प्रस्तुति।
    ओ माई मेरी क्या फ़िक्र तुझे

    ReplyDelete