ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, August 28, 2015

कच्चे धागों में बहनों का प्यार है


कच्चे धागों में बहनों का प्यार है 
देखो राखी का आया त्यौहार है   



सभी को राष्ट्रव्यापी पारिवारिक पर्व रक्षाबंधन की हार्दिक मंगलकामनाएं!

15 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (29-08-2015) को "आया राखी का त्यौहार" (चर्चा अंक-2082) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    भाई-बहन के पवित्र प्रेम के प्रतीक
    रक्षाबन्धन के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. रक्षाबंधन पर शुभकामनाऐं ।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना
    Happy Rakshabandhan!

    ReplyDelete
  4. शुभकामनायें राखी के पावन पर्व की।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर भाव पूर्ण ..मंगलकामनाएँ !

    ReplyDelete
  6. राखी के पावन पर्व की......शुभकामनायें :))

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना .... हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. सुंदर प्रस्तुति. रक्षाबंधन की आपको भी बहुत बहुत बधाइयाँ.

    ReplyDelete
  9. रक्षा बंधन की ढेरों शुभकामनायें ... इतनी सुन्दर लाजवाब रचना के साथ इस पर्व के महत्त्व को आपने नहीं ऊंचाहोयाँ दी हैं ...

    ReplyDelete
  10. सुंदर प्रस्तुति....रक्षाबंधन की शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  11. सुन्दर व सार्थक रचना ..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है...

    ReplyDelete
  12. रक्षाबंधन पर शुभकामनाऐं ...........
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete