क्या है तेरे दिल का हाल रे

मिला तेरा प्यारा भरा साथ
हुआ है मेरा दिल निहाल रे
आकर पास तू भी बता जरा
क्या है तेरे दिल का हाल रे

मिला प्यारा हमसफ़र जिंदगी का
दिल ने दिल से नाता जोड़ा रे
जब से प्यार में डूबना सीखा दिल ने
तब से मन ने उदास रहना छोड़ा रे

अब हुआ है दिल पागल प्यार में
तुझसे दूर नहीं कोई दिल का राज रे
अच्छा लगता तेरे प्यार में डूबना
अब तो सूझे नहीं दूजा कोई काज रे

डूबकर लिखूं प्यार भरी पाती
हुआ प्यार से दिल  निहाल रे
उठा कलम तू भी लिख जरा
क्या है तेरे दिल का हाल रे।

वैवाहिक जीवन की 20वीं वर्षगांठ पर सोच रही थी कि क्या लिखूं, तो संदूकची में पड़ी डायरी याद आयी तो उसमें बहुत सी प्रेम पातियाँ निकलती गई। यादें ताजी हुई तो सोचा एक छोटी सी अबोध रचना प्रस्तुत कर दूँ।
 ....कविता रावत




SHARE THIS

Author:

Previous Post
Next Post
November 30, 2015 at 11:01 AM

बहुत सुन्दर - बधाई और शुभकामनाएं

Reply
avatar
November 30, 2015 at 11:08 AM

सुन्दर प्रस्तुति! साभार! आदरणीया कविता जी!

Reply
avatar
November 30, 2015 at 12:42 PM

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगवार (01-12-2015) को "वाणी का संधान" (चर्चा अंक-2177) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Reply
avatar
November 30, 2015 at 2:36 PM

सुन्दर गीत ........ ..
वैवाहिक जीवन की 20वीं वर्षगांठ पर हार्दिक बधाई .....

Reply
avatar
November 30, 2015 at 5:46 PM

वाह......बढिया कविता. शुभकामनाएं.

Reply
avatar
December 1, 2015 at 10:28 AM

सुंदर प्रस्तुती...एवं वैवाहिक जीवन की 20वीं वर्षगांठ पर ढेर सारी शुभकामनाएं...कविता जी

Reply
avatar
December 1, 2015 at 11:10 AM

बहुत सुन्दर - वाहिक जीवन की 20वीं वर्षगांठ पर बधाई और शुभकामनाएं

Reply
avatar
December 1, 2015 at 12:15 PM

हार्दिक बधाईयां स्वीकार कीजिये।

Reply
avatar
December 1, 2015 at 1:06 PM

वैवाहिक जीवन यूँ ही आनंद से रहे । शुभकामनाएं । अबोध भावों को प्रस्तुत करती रचना ।

Reply
avatar
December 1, 2015 at 1:06 PM

वैवाहिक जीवन यूँ ही आनंद से रहे । शुभकामनाएं । अबोध भावों को प्रस्तुत करती रचना ।

Reply
avatar
December 1, 2015 at 2:39 PM

डायनामिकबहुत बहुत बधाई आदरणीय कविता जी

Reply
avatar
December 1, 2015 at 7:01 PM

hamari bhi haardik badhai.....

Reply
avatar
December 1, 2015 at 7:01 PM

बहुत सुन्दर...हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

Reply
avatar
December 1, 2015 at 7:02 PM

बहुत सुन्दर...हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

Reply
avatar
December 2, 2015 at 7:29 AM

हार्दिक मंगलकामनाएं आपको !

Reply
avatar
December 2, 2015 at 12:18 PM

बहुत बहुत शुभकामनाएं।

Reply
avatar
December 2, 2015 at 5:34 PM

बहुत सुन्दर, गीतमय अभिव्यक्ति |

Reply
avatar
December 2, 2015 at 10:57 PM

सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार....

Reply
avatar
December 4, 2015 at 8:05 AM

वाह...
बेहतरीन अभिव्यक्ति
सादर

Reply
avatar