ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Friday, May 13, 2016

उज्जयिनी का सिंहस्थ कुम्भ महापर्व


कुंभ का शाब्दिक अर्थ 'कलश' है। प्रारंभ से ही प्रत्येक शुभ कार्य में कलश पूजन का अपना अलग महत्व होता है। 'कलश' कला और संस्कृति का ही प्रतिनिधित्व ही नहीं करता अपितु यह सृष्टि तथा पूर्ण व्यक्तित्व का भी प्रतीक माना जाता है।
वेदों में कलश को 'ऋतसदन' पुराणों में 'अमृत घट' कहा गया है, जो सागर मंथन से प्राप्त अमृत को रखने के लिए हुआ था। अर्थात् इन बातों से इतना तो स्पष्ट हो गया कि इस महत्वपूर्ण पर्व का यह नाम इसकी पवित्रता एवं इसके महत्व पर प्रकाश डालने वाला नाम है।
वेद शास्त्रों के उल्लेख से स्पष्ट है कि कुंभ पर्व प्राचीन काल से चला आ रहा है। श्रीमद् भागवत पुराण के अनुसार जब देवताओं एवं दानवों के युद्ध में देवताओं का पक्ष कमजोर पड़ गया और वे इस युद्ध में हार गए, तब भगवान विष्णु की दोनों पक्षों में समझौते की राय मान ली गई। यह निर्णय लिया गया कि दानव और देव एक साथ समुद्र मंथन आरंभ करें और दोनों पक्षों ने समुद्र मंथन किया, जिसके फलस्वरूप समुद्र के गर्भस्थल से अनेक महत्व के रत्न प्राप्त होने के बाद चौदहवां रत्न 'अमृत' प्राप्त हुआ।
अमृत को लेकर देवता और दानवों में पुनः मतभेद हो गया और उनके बीच 12 दिनों तक युद्ध हुआ लेकिन जिस कुंभ में यह अमृत भरा पड़ा था, उसे कोई भी दल प्राप्त नहीं कर सका। तब भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण किया और वे नाचती-नाचती संघर्ष स्थल पर पहुंची और उन्होंने अपनी युक्ति से कुंभ में रखे अमृत का वितरण किया।
अमृत कुंभ को प्राप्त करने के लिए देवताओं व दानवों के 12 दिन के युद्ध के फलस्वरूप अब 'कुंभ' रखा गया। लेकिन शास्त्रों के अनुसार पृथ्वी पर केवल 4 स्थानों पर कुंभ रखा गया- हरिद्वार, प्रयाग, उज्जैन और नासिक। यही कारण है कि सिर्फ इन चार स्थानों पर कुंभ मनाया जाता है। ऐसी मान्यता है कि मानव जितने समय को एक वर्ष की अवधि मानता है, उतना ही समय देवताओं के लिए केवल एक दिन के बराबर होता है। इस अनुपात से युद्ध के 12 दिनों को मानव समाज 12 वर्ष गिनता है और यही कारण है कुंभ का पर्व चारों जगह 12-12 वर्षों के बाद आता है।
'मेष के सूर्य और सिंह के गुरू के समावेश का ये पर्व महापर्व का रूप लिए उज्जयिनी में आता है। सिंह का गुरू के साथ ये बारह संयोग 'सिंहस्थ' महापर्व कहलाता है, इसलिए इस कुंभ का विशेष महत्व है। इसी समय सूर्य भी मेष राशि पर होता है। बारह वर्षों के इस चक्र को हम पूरी भावना से बांध देते है। उज्जयिनी के लिए अनेक प्रकार की संभावनाओं और उपलब्धियों का अमृत कलश लेकर ये पर्व शनैः-शनैः द्वार पर दस्तक देने आ पहुंचा है।
मालवा की गंगा शिप्रा नदी के इर्द-गिर्द चार क्षेत्रों में विभाजित यह 'सिंहस्थ' मेला देश-विदेश से समागत जनता, गृहस्थ और विरक्त का आकर्षण केन्द्र बन जाता है। इन चारों क्षेत्रों में से अंकपात वैष्णव महात्माओं रामनंदी के लिए, दत्त अखाड़ा दशनामियों के लिए, रूद्रसागर वैदिक मतावलंबियों व सनातन धर्मी शंकर दंडी सन्यासियों के लिए तथा नृसिंह घाट में रामानुज संप्रदाय के संत महात्मा एवं आचार्यों के पड़ाव रहते हैं। इसी प्रकार लालपुल के समीप परमहंस साधुगण कल्पवास करते हैं तथा विरक्त साधु संत भी इसी स्थान पर रहते हैं। इसी प्रकार नाथ संप्रदाय के साधुओं का पड़ाव ऋणमुक्तेश्वरी, भर्तृहरि की गुफा और पीर मछन्दरनाथ की समाधि पर होता है। लेकिन शासन तंत्र, आध्यात्म एवं जनता का जब समन्वय होता है तो शासन तंत्र अपने से जुड़े हुए शब्द-तंत्र की विद्या से जनता एवं आध्यात्म के किसी भी रूप को अपने अनुरूप बना लेता है।
साधुओं के विभिन्न स्वरूप कहीं-कहीं अदम्य मानवता से ओतप्रोत और निराकार तथा वैदुष्य संपन्न तो कहीं इसके बिलकुल विपरीत, लेकिन उज्जयिनी की पवित्र माटी तो समदर्शिनी है। उसका तो नाम ही क्षमा है। उसकी छाती तो बारह वर्षों के इस पवित्र पर्व पर सभी के लिए समान रूप से बिछी है। साधुओं का एक लक्ष्य होते हुए भी अनेक मठों और मठाधीशों के मतों में आवान्तर भेद है। वैष्णवी धारा इस जीवन दर्शन में आस्था रखती है जो राग के दमन पर नहीं शोधन पर आधारित है। ये लोग मुक्ति से भी आगे भक्ति को आधार बताते है, तो दंडी संन्यासी वेद विहित मार्ग पर चलना अपनी लकीर मानते है। समाविष्ट सन्यासी वर्ग जो दशनामी से विभूषित हैं, चारों वेदों के आधार पर चार पीठ में विभाीजित है। योगतंत्र को अपनी साधना मानना इस वर्ग का रूप है।
इनके विभिन्न स्वरूपों के बावजूद भारतीय आध्यात्मिक जीवन में जल और स्नान ध्यान आदि का बड़ा महत्व है। पर्व के समय समीपवर्ती सरोवर, कुण्ड नदी या समुद्र में स्नान करना अधिक पुण्यदायी माना जाता है। गृहों की विशेष स्थिति पर कुंभ और सिंहस्थ के स्नान की प्रथा इसी परंपरा की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। पौराणिक गाथा के अनुसार वैशाख मास में जो श्रेष्ठ मनुष्य पावन सलिला शिप्रा नदी में स्नान करते है, उन्हें किसी भी प्रकार के नर्क का भय नहीं रहता है। इसी अवधि में पंचक्रोशी यात्रा में लाखों यात्री नागेश्वर  सहित चारों दिशाओं में स्थित शिवालय के दर्शन करते हुए संपूर्ण नगर की 118 कि.मी. लंबाई की प्रदक्षिणा पूरी करते नागेश्वर हैं। अंत में शिप्रा तट के 28 तीर्थों की यात्रा अष्टारट विशांति यात्रा, जो अब 'अष्टतीर्थी' यात्रा करते हुए मंगलनाथ पर पांच दिवसीय यात्रा पूर्ण करते हैं। सिंह राशि के गुरू के साथ मेष के सूर्य का संयोग विशेष महत्वपूर्ण होने से संक्रमण स्नान पर्व वैशाखी अमावस्या, पितरों का पर्व है। पिण्डदान, तर्पण, जलांजलि, श्रद्धांजलि के रूप में अर्पित करते हैं। इसी श्रृंखला में अक्षय तृतीया पुण्य को क्षय से बचाती है। वैशाखी शुक्ल पंचमी शंकराचार्य के प्रति श्रद्धांजलि अर्पण पर्व है।
वैशाख मास के अंतिम पांच दिन अथवा एक दिन के तीर्थ वास और स्नान का विशेष पुण्य काशी के लंबे निवासी की अपेक्षा वैशाख मास के पांच दिन उज्जयिनी वास करने से प्राप्त है। क्षिप्रा में वैशाखी पूर्णिमा के स्नान का महत्व विशेष तौर से इसलिए भी है क्योंकि इसमें सिंहस्थ और कुंभ दोनों पर्व मिलते हैं। उज्जैन के कुंभ में ये योग मुख्य है-वैशाख मास, शुक्ल पक्ष पूर्णिमा, मेष राशि का सूर्य, सिंह राशि का बृहस्पति, चंद्र का तुला राशि पर होना, स्वाति नक्षत्र व्यतिपात, स्कंद पुराण के अनुसार अत्रि नामक एक ऋषि ने अपने एक हाथ को उठा कर तीन हजार वर्ष तक कठोर तपस्या की थी। तत्पश्चात् उनके शरीर से दो स्त्रोतों का प्रवाह हुआ। एक आकाश की ओर चला गया, जो बाद में चंद्र बन गया और दूसरा धरती की ओर जिसने बाद में क्षिप्रा नदी का रूप धारण किया। क्षिप्रा के शाही स्नान का अपना एक विशेष महत्व है। जब इस शाही स्नान में साधु संतों के सभी अखाड़े पावन क्षिप्रा के दत्त अखाड़ा एवं रामघाट पर स्नान करते हैं। सभी अखाड़े अपने पवित्र ध्वज (अणी) की पूजा करते हैं और बाद में स्नान के पूर्व अणी को पवित्र जल से स्पर्श करते हैं। सन्यासियों के भस्म की छाल को शिप्रा अपने में समा लेती है और उस समय ऐसा प्रतीत होता है जैसे क्षिप्रा में भस्म का रंग घुल गया हो। इस अवसर पर सभी को मालवा की ये गंगा अपने सीने से लगा लेती है।
शास्त्रों के अनुसार देवराज इंद्र का पुत्र जयंत जब अमृत कलश लेकर भागा तो उसके साथ चंद्रमा ने अमृत छलकाने, सूर्य देव ने कलश फटने से और बृहस्पति ने कलश को दैत्यों के हाथों से जाने से रोकने में काफी योगदान किया था। इसलिए इन्हीं गृहों के संयोग से सिंहस्थ (कुंभ पर्व) की तिथि निश्चित की जाती है। बताया जाता है कि जिस दिन सुध कुंभ गिरने की राशि पर सूर्य, चंद्रमा व बृहस्पति का संयोग हो, उसी समय पृथ्वी पर कुंभ का योग पड़ता है। उज्जयिनी का सिंहस्थ पर्व योगियों एवं जोगियों दोनों का ही अद्भुत समागम सम्मेलन है। इस शुभ अवसर पर योगी योनि की संत महापुरूष एवं जोगी यानि जिज्ञासु गृहस्थ गण को सूक्ष्म रूप से ज्ञान प्रदान करके उनकी जिज्ञासा शांत करते हैं। साथ ही उनके सामने अनुकरणीय आदर्श प्रस्तुत करके उन्हें अंधकार से प्रकाश की ओर आकृष्ट करते हैं। ऐसी प्रेरणा लेकर यहां पहुंचने वाला प्रत्येक भक्त भविष्य के लिए नई प्रेरणा लेकर लौटता है।
...द्वारकाधीश चौधरी



25 comments:

  1. सिहस्थ कुम्भ की अत्यन्त महत्वपूर्ण जानकारी।

    ReplyDelete
  2. उज्जयिनी के सिंहस्थ कुम्भ महापर्व का लाजवाब संकलन ....

    ReplyDelete
  3. अति सुन्दर लेख
    एक बहुत जरुरी पोस्ट

    जय महाकाल की!

    ReplyDelete
  4. सिहंस्थ के बारे में बहुत अच्छी जानकारी है
    फोटोज सिहंस्थ पर चार चाँद लगा रहे है ...

    ReplyDelete
  5. सिंहस्‍थ कुंभ के बारे अच्‍छी और रोचक जानकारी प्रस्‍तुत की है आपने। सभी चित्र इसकी भव्‍यता को प्रदर्शित कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (14-05-2016) को "कुछ जगबीती, कुछ आप बीती" (चर्चा अंक-2342) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  7. सिहंस्थ की बारे में सुन्दर तस्वीरों के साथ बहुत अच्छी जानकारी के साथ हमने भी आस्था की डुबकी लगा ली हैं ...............................
    जय महाकाल की नगरी उउज्जयिनी की जय हो!!!!

    ReplyDelete
  8. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, " हिंदी भाषी होने पर अभिमान कीजिये " , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  9. जीवंत वर्णन और सुंदर चित्र ....

    ReplyDelete
  10. सुन्दर चित्र

    ReplyDelete
  11. रोचक जानकारी कुभ पर्व की।

    ReplyDelete
  12. Jay!! Bhole nath!!
    Very good work #kavitarawat keep it up

    ReplyDelete
    Replies
    1. This comment has been removed by a blog administrator.

      Delete
  13. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 17/05/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    ReplyDelete
  14. कविता जी, बहुत बढिया प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही विस्तृत जानकारी महाकाल और अमृत पर्व की ...श्रधा के इस पर्व के विभिन्न रंगोब को बाखूबी लिखा है आपने ...

    ReplyDelete
  16. खूब विस्तार से पूरा विवरण देने के लिये आभार !

    ReplyDelete
  17. 💥💥"नवीनतम करेंट अफेयर्स और नौकरी अपडेट के लिए इस ब्लॉग पर विजिट करते रहें।"💥💥

    Ishwarkag.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. शानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  19. अब RS 50,000/महीना कमायें
    Work on FB & WhatsApp only ⏰ Work only 30 Minutes in a day
    आइये Digital India से जुड़िये..... और घर बैठे लाखों कमाये....... और दूसरे को भी कमाने का मौका दीजिए... कोई इनवेस्टमेन्ट नहीं है...... आईये बेरोजगारी को भारत से उखाड़ फैंकने मे हमारी मदद कीजिये.... 🏻 🏻 बस आप इस whatsApp no 8017025376 पर " INFO " लिख कर send की karo or

    ReplyDelete
  20. अच्छा जानकारी सिहस्त के संबंध में।

    htt//tereliyejindgi.blogspot.com

    ReplyDelete
  21. अच्छा जानकारी सिहस्त के संबंध में।

    htt//tereliyejindgi.blogspot.com

    ReplyDelete