ब्लॉग के माध्यम से मेरा प्रयास है कि मैं अपने विचारों, भावनाओं को अपने पारिवारिक दायित्व निर्वहन के साथ-साथ कुछ सामाजिक दायित्व को समझते हुए सरलतम अभिव्यक्ति के माध्यम से लिपिबद्ध करते हुए अधिकाधिक जनमानस के निकट पहुँच सकूँ। इसके लिए आपके सुझाव, आलोचना, समालोचना आदि का स्वागत है। आप जो भी कहना चाहें बेहिचक लिखें, ताकि मैं अपने प्रयास में बेहत्तर कर सकने की दिशा में निरंतर अग्रसर बनी रह सकूँ|

Thursday, February 21, 2019

डरपोक कुत्ते सबसे तेज़ भौंकते हैं


मुर्गा अपने दड़बे पर बड़ा दिलेर होता है
अपनी गली का कुत्ता भी शेर होता है

दुष्ट लोग क्षमा नहीं दंड के भागी होते हैं
लातों के भूत बातों से नहीं मानते हैं

हज़ार कौओं को भगाने हेतु एक पत्थर बहुत है
सैकड़ों गीदड़ों के लिए एक शेर ही ग़नीमत है

बुराई को सिर उठाते ही कुचल देना चाहिए
चोर को पकड़ने के लिए चोर लगाना चाहिए

कायर भेड़िए की खाल में मिलते हैं
डरपोक कुत्ते सबसे तेज़ भौंकते हैं

...कविता रावत


20 comments:

  1. हर बात सटीक ... सामयिक और सार्थक ....
    डरपोक कुत्ते सच में सबसे तेज़ भौंकते हैं ... गली के कुत्ते शेर होते हैं ...
    लातों के भूत बातों से नहीं मानते ... आपका अंदाज़ बहुत चुटीला, चुस्त और लाजवाब है ...

    ReplyDelete
  2. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शुक्रवार 22 फरवरी 2019 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. सटीक डरपोक कुत्ते और तेज भौंक ।

    ReplyDelete
  4. चोर को पकड़ने के लिए चोर लगाना चाहिए
    बहुत ही अच्छी बात।
    आतंकवादियों से मुक्ति का यही एक फार्मूला है।
    प्रणाम।

    ReplyDelete
  5. बुराई को सिर उठाते ही कुचल देना चाहिए
    चोर को पकड़ने के लिए चोर लगाना चाहिए

    कायर भेड़िए की खाल में मिलते हैं
    डरपोक कुत्ते सबसे तेज़ भौंकते हैं
    बहुत सही कहा, कविता दी।

    ReplyDelete
  6. बुराई को सिर उठाते ही कुचल देना चाहिए। प्रणाम कविता जी।

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (22-02-2019) को "नमन नामवर" (चर्चा अंक-3255) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है.... आपके सादर संज्ञान की प्रतीक्षा रहेगी..... आभार...

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी रचना सखी |पढ़कर बहुत अच्छा लगा
    सादर

    ReplyDelete
  10. गली के कुत्ते शेर होते हैं एकदम सटीक और लाजवाब है लिखा है कविता दी

    ReplyDelete
  11. कविता जी बहुत खरी-खरी सुनाई आपने ! लेकिन आप से हमारे तमाम नेता नाराज़ हो जाएंगे क्योंकि वो भी दुश्मन को काटने से ज़्यादा उस पर भौंकने में यकीन रखते हैं.

    ReplyDelete
  12. समसामयिक सटीक प्रस्तुति...
    बहुत ही लाजवाब।

    ReplyDelete
  13. हज़ार कौओं को भगाने हेतु एक पत्थर बहुत है
    सैकड़ों गीदड़ों के लिए एक शेर ही ग़नीमत है
    बहुत खूब.... कविता जी

    ReplyDelete
  14. क्या कविता लिखा है आपने बहुत खूब !!
    Telegram Motivational Channel In Hindi - English [हिंदी-2019]

    ReplyDelete
  15. सटीक अवलोकन

    डरपोक कुत्ते तेज़ भौकते हैं

    ReplyDelete
  16. Thank you for sharing this article it is very helpful to us but I want to know how to make an American eagle credit card payment

    ReplyDelete