पाकिस्तानी नंगी फोटो

नंगी चुदाई की चुदाई

नंगी चुदाई की चुदाई, जीजा ने सुरलीन को समझाने के बहुत कोशिश की लेकिन वो नहीं मानी, वो बोली कि अगर वो कुछ बोले तो वो उससे तलाक ले लेगी। मेरे पास कोई चारा था नहीं ! सुबह होते ही मैंने अपनी सहेली रचना को फोन लगाया जो चण्डीगढ़ में ही रहती थी और उसके घर टेक्सी करके चली गई। अपनी चप्प्लो की जोड़ी में से मैने गुलाबी रंग की चप्पल निकाल कर पहन ली. मेरे गोरे रंग पर वह फॅब'ती थी यह मैं जान'ता था. फिर मैं खूब नहाया, बदन पर खुशबूदार पाउडर लगाया और सिर्फ़ एक जांघिया और हाफपैइंट पहन कर प्रीतम का इंतजार कर'ने लगा.

जीशान जब शीबा के मुँह से ये झूठी बातें सुनता है तो उसे ये सब सच लगता है और वो उन बातों पे यकीन भी कर लेता है-जब ऐसी बात है तो आपकी कसम अम्मी, मैं उनसे कभी बात नहीं करूँगा… कभी नहीं … मेरा लंड उस समय सिकुड़ा हुआ था तो दीदी माँ को मेरा लंड दिखाते हुए बोली- अरे वाहह.. माँ तुम्हारा ये चूसने वाला तरीका तो ज्यादा बढ़िया था.. भाई को झाड़ भी दिया और लंड पर भी कुछ नहीं हुआ।

वो सोफिया के निपल्स को हल्के से हिलाता है, ये सोचकर कि सोफिया उठ जाए, या ऐसी कोई हरकत करे जो आज रात गुजारने की राह आसान कर दे। नंगी चुदाई की चुदाई रज़िया और अमन के प्यार के निशानी सोफिया, उस पतली सी पिंक कलर की नाइटी में जीशान के सामने खड़ी थी। जीशान सोफिया को उस नाइटी में देखकर दंग रह जाता है। उससे खड़ा भी नहीं रहा जा रहा था वो पास में पड़े सोफे पर बैठ जाता है।

मराठी सेक्सी व्हिडिओ सेक्स

  1. नग़मा अपने जीशान के लण्ड को पूरा का पूरा मुँह में लेकर चूसती रहती है। जीशान से बर्दाश्त नहीं होता वो रज़िया को बेड पर लेटा देता है, और उसके दोनों पैर खोल देता है।
  2. अनुम-आह्ह… उहुउउ… उउउन्ह… अम्मी रात भर इन्होंने ने मुझे सोने नहीं दिया आह्ह… और अब सुबह से ह … रुकिये ना जी आह्ह… देसी हाउसवाइफ सेक्स
  3. जीशान को सच में एहसास हुआ था कि वो अनुम से इस तरह रहकर खुद को भी और अनुम को भी परेशान कर रहा है। जब से लुबना ने उससे अपनी मोहब्बत का इजहार किया था, उसी दिन से उसे ये एहसास भी हो गया था कि एक बहन के जज़्बात अपने भाई के लिए कितने आसानी से बदल जाते हैं। अनुम-आह्ह… अम्मी जी… वो मुश्कुरा देती है। आज अनुम को वो खुशी मिल रही थी जिसकी वो हकदार थी। मोहब्बत और जज़्बातों की रात तो अभी शुरू हुई थी।
  4. नंगी चुदाई की चुदाई...रज़िया नग़मा के पास बैठी चुपचाप खा रही थी। लुबना की आदत थी कि वो किसी के मुँह का पानी तक नहीं पीती थी। जबकि घर में सभी कभी ना कभी एक प्लेट में खाना खा लिया करते थे। मगर लुबना कभी दूसरे के साथ एक प्लेट में खाना भी नहीं खाया करती थी, और ये बात घर में सभी को मालूम थी। मैं बेड पर लेटा तो वो ऊपर चढ गया! तब तक मेरी गाँड पूरी खुल चुकी थी! उसने थूक लगाया और देखते देखते उसका लँड मेरी गाँड के अंदर समाता चला गया!
  5. प्रदीप जब दस साल का था तब प्रभा के पिता की मौत हो गयी. प्रभा अकेली हो गयी. सेक्स की भूखी उस औरत को समझ में नहीं आ रहा था कि अब क्या करे. उसका ध्यान अब अप'ने बेटे पर गया. अगर उस'के पिता अपनी बेटी को चोद सकते थे तो वो अप'ने बेटे को क्यों नहीं चोद सक'ती, ऐसा उस'के दिमाग़ में आने लगा. रज़िया अपने दोनों हाथ जीशान के अंडरवेअर में डालकर दोनों हाथों से जीशान की कमर थाम लेती है-आह्ह… बाथरूम में नहाते हुये मेरे चूत के अंदर अपना लौड़ा रख कर अंदर-बाहर करते हुये दोनों के जिस्म पर शावर से पानी गिरते हुये, हर वक्त हर जगह मैं तुमसे चुदना चाहती हूँ जीशान , पेशाब करते हुये भी…

தமிழ்ராக்கர்ஸ் திரைப்படங்கள்

शीबा मस्ती में इतना चूर हो चुकी थी कि वो कमर को ऊपर उठा-उठाकर जीशान को और अंदर जाने की जगह देने लगती है।

मैं इनकार का मतलब अच्छी तरह समझ चुकी थी इसलिए अपने होंठों को खोलकर मैंने उसकी जीभ को अंदर आने दिया। वो अपनी जीभ को मरे मुँह में घुमाने लगा। मुझे उससे इतनी घिन हो रही थी की बयान नहीं कर सकती। फिर वो अपने गंदे दाँतों से मेरे होंठों को काटने लगा। उसने बताया कि शादी के बाद उन्हें चुदाई के बारे में ज़्यादा नहीं मालूम था और उसका पति उसकी गाण्ड में ही अपना लंड पेलता था..

नंगी चुदाई की चुदाई,जीशान नंगा होकर सोफिया के जिस्म के ऊपर चढ़ जाता है। उसका लण्ड सीधा सोफिया की चूत के ऊपर रगड़ रहा था, जिसे हाथ में पकड़कर सोफिया अपनी चूत के दाने पर रगड़ने लगती है। दोनों एक दूसरे के होंठों को छोड़ने वाले नहीं थे।

अनुम-उन्ह… उसका जिस्म, उसकी रुक, उसका वजूद आज जीशान के कब्ज़े में था और जीशान था कि अनुम को माथे से लेकर होंठों तक चूमता चला जाता है।

दोनो आदमियों ने अपने चेहरे पर रुमाल बाँध रखा था जिससे उनकी शकल देखना नामुमकिन था, सिर्फ़ आँखें दिखाई दे रही थी. दोनो लंबे चौड़े, हत्ते कत्ते थे जिनपर अजय चाहकर भी अकेला काबू नही पा सकता था. और उसपर उनके पास गन थी जो उस वक़्त अजय के सर पर लगी हुई थी.हिंदी सेक्स बुक

वो उसपर कुछ ख़ास ध्यान नहीं देता है और खाना खाने लग जाता है। खाना खाने के बाद सभी अपने-अपने कमरे में चले जाते हैं। काल जीशान के यू ॰के॰ वाले दोस्त का था। जीशान थोड़ी देर उससे बात करता है और फिर से लुबना के पास आकर बैठ जाता है। जीशान सेल पर बात करने के बाद खुश नजर आ रहा था।

सोफिया रोते-रोते अब हिचक़ियों पे आ गई थी और जब वो ऐसी हालत में होती है तो उसे साँस लेने में मुश्किल होने लगती है, इस बात से अमन भली भाँति वाकिफ़ था। वो सोफिया को अपनी तरफ खींचता है पर सोफिया भी अपने बाप की बेटी थी जिद्दी । वो अमन का हाथ झटक देती है।

दोस्तो आपने देखा इस दुनिया मे ये भी होता है इसलिए सोच समझ कर किसी लड़की की चुदाई करे आपका दोस्त राज शर्मा समाप्त,नंगी चुदाई की चुदाई जीशान अपने दाँत पीसते हुये-कौन जीशान… मैं तुझे नहीं जानता, तू है कौन? और यहाँ क्या कर रही है? चल जा वरना मुझसे बुरा कोई नहीं होगा…

News