खुल्लम-खुल्ला बुर चुदाई

मां की चूत चुदाई

मां की चूत चुदाई, उस दिन जब सपना ने ठान ही लिया कि सोनू को भी अंदर भेज कर इस कुतिया की भोसड़ी फेड्वा ही देनी है और अब तक अंदर का नज़ारा देख कर सोनू भी गरमा गया था जब प्रिया निकल गयी, तो राजा आएशा के पास जा बैठा, उसकी जाँघो को थपथपा कर बोला-----क्या ख़याल है आएशा---आएशा कुच्छ नही बोली.

मैं उस वक़्त ख्यालो की दुनिया से बाहर आया…..जब बाहर बरामदे मे रखे फोन की घंटी बजी…..मैं उठ कर बाहर आया और फोन उठाया….दूसरी तरफ से अबू की आवाज़ आई…हेलो समीर…. नाज़िया कभी मेरे मोबाइल की तरफ देखती तो, कभी मेरी तरफ तभी मेरा मोबाइल बजने लगा….मिस कॉल देख कर अब्बू ने बॅक कॉल की थी…लो आ गया अब्बू का फोन….अब तुम्हारी वो सारी रेकॉर्डिंग सेंड कर दूँगा अब्बू को…और फिर जवाब देती रहना….. मेने कॉल पिक की और अब्बू से बात करने लगा….मेने अब्बू को सलाम किया……

चाची मुझे मोटी नहीं होना है मैं ऐसे ही ठीक हूं। ( दूध का गिलास जानते हुए बोली और एक ही सांस. में पूरा दूध पी गई,,,, दूध पीकर वह अपनी चाची को गिलास थमाते हुए बोली।) मां की चूत चुदाई अभी में अपनी चूत पर किए गये विनोद के पहले हमले से ही सम्भल नही पाई थी. कि विनोद ने मेरी चूत के होंठों को अपनी नुकीली ज़ुबान से खोलते हुए अपने गरम मुँह को मेरी प्यासी चूत के साथ चिपका दिया.

भाभी देसी सेक्स वीडियो

  1. चले तो गए होते चाची लेकिन देख रही हो समय कितना हो रहा है और वहां पर इतनी रात को जाने से दादी ने सब को मना करके रखी है,,,
  2. पूनम तुम्हें ऐसा नहीं लगता कि अपने पास का लड़का सोहन दूध लेने के बहाने अपने घर की औरतों को कुछ ज्यादा ही ताक झांक करता रहता है,,,, एक्स एक्स एक्स टार्जन
  3. मई: अगर तुम अब्बू से मॅरेज करना चाहती हो तो, तुम मुझसे वादा करो कि, आगे से ऐसी गिरी हुई हरक़त नही करोगी…. वो लंड को पूरा बाहर तक निकालता और एक झटके मे अंदर वापिस डाल रहा था, और उसका लंड अंदर कही टकरा जाता तो एक दर्द की मीठी लहर मेरे तन बदन मे दौड़ जाती.
  4. मां की चूत चुदाई...नजीबा मेरी बगल में लेट गयी….उसने अपना सर मेरी चेस्ट पर रख लिया….और मेरी चेस्ट को सहलाते हुए बोली….समीर कोई गड़बड़ तो नही होगी…? कोक तो सिर्फ़ दिखावा थी,असल में तो यासिर कोक में विस्की डाल कर पी रहा था मेरी जान विनोद ने ये बात कहते और मुझे भाभी एक दम जान मुखातिब करते हुए मुझ पर हैरत का एक प्रहार किया.
  5. मुझे कुछ जवाब नहीं सूझा, पर मैंने पता नहीं क्यों उसके होंठों को चूमते हुए कहा- हाँ.. ललिता, मैं डॉली को चोदना चाहता हूँ, क्या उसकी सील अभी नहीं टूटी? क्या उसने अभी किसी के साथ सेक्स नहीं किया? उफफफफफफफफफ्फ़ मैने भी अप के बगैर ये वक्त कैसे गुज़ारा है ये सिर्फ़ में और मेरी चूत ही जानती है यासिर मैने भी प्यार से अपने शौहर क बालो को सहलाते हुए जवाब दिया.

पड़ोसन भाभी की चुदाई

हमम्म----प्रिया तुम कहती हो तुमने इसे आजमाया है----कैसा रहा इसका पर्फॉर्मेन्स----कितनी देर चोदता हैं----कितने तरीके आते हैं------क्मेरे के सामने, बाकी लोगो की उपस्थिति मे, चोद पाएगा, या हमारे बाकी हीरो की तरह ये भी----पोपट गिरा देगा

मेरे लंड से गरम-गरम लावा निकल कर डॉली की चुनमूनियाँ में भरने लगा। हम दोनों ने एक-दूसरे को बहुत ही जोर से जकड़ लिया। सनडे की बात है उसको आए 2 दिन निकल गये थे, वो सुबह वही हरकत कर रहा था, की मैने उसका दरवाज़ा अचानक खोल दिया, मुझे अंदाज़ा ही नही था कि वो इस हालत मे होगा, वो खुद को ढक भी नही सकता था, और मैं दरवाज़े पर खड़ी हुए उसको लंड हिलाते हुए देख रही थी.

मां की चूत चुदाई,फिर अंजली ने गोरी वाली लड़की को घूरकर देखा और बोली- यह क्या हरकत थी? तुम्हें पता है मुझे कितना दर्द हुआ?

और दूसरे मम्मे को अपने हाथ में लेकर मसलना शुरू कर दिया….अहह शियीयियीयियी उंह हाआँ समीर आज में हमेशा हमेशा के लिए तुम्हारी हो जाना चाहता हूँ….

पूनम झाड़ियों में चलेंगे तो फ़ायदा रहेगा वहां पर बैर बड़े-बड़े और पक चुके हैं उसे भी तोड़ते हैं आएंगे,,,,( बेला को मालूम था कि पूनम को बेर बहुत पसंद है इसलिए वह इंकार नहीं कर पाएंगी और ऐसा हुआ भी,,,, बेला की बात सुनकर उसके चेहरे पर खुशी साफ झलकने लगी और वह तैयार हो गई।गुजरात की ब्लू फिल्म

बिल्लू: हहा भतीजे जी….पर लगता है अपना मामला सेट हो गया….अब किसी तरह एक बार इसकी फुद्दि मिल जाए बस…फिर तो खुद ही वही आ जाएगे….जहा पर इसको बुलाउन्गा… नजीबा रज़ाई के अंदर अपने घुटनो को मोड़ कर बैठी हुई थी….मेरी बात सुन कर उसने अपने सर को अपने घुटनो में छुपा लिया….उसके गाल और कान दोनो शरम से लाल सुर्ख हो चुके थे…..बताओ तो सही….. मेने नजीबा की बाज़ू पर हाथ रखते हुए कहा…

यार मेडिसिन ली है….थोड़ी देर बाद फ़र्क पड़ जाएगा……अच्छा यार तुम लोग रास्ते मे भीगे तो नही….बड़ी तेज बारिश शुरू हो गयी थी…..

इस बार नाज़िया की फुद्दि के साथ मेरे लंड ने भी उसकी फुद्दि की दीवारो को अपने गाढ़े पानी से सारॉबार कर दिया…नाज़िया के चेहरे पर संतुष्टी भरी मुस्कान फेली हुई थी… हम दोनो करीब 15 मिनिट तक बेड पर लेटे सुस्ताते रहे…,मां की चूत चुदाई उसी समय सूजी ने मेरे थोड़ा कठोर हो चुके लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर रखा और अंगूठे की सहायता से जबरदस्ती अपनी चूत में ठूंस लिया, चूत के अन्दर की गर्मी पाकर तो मेरा लंड एकदम से खडा होने लगा और चूत में पड़े पड़े ही सीर उठाने लगा,

News