મીયા ખલીફા સેક્સ વીડિયો

चूत में लंड बड़ा

चूत में लंड बड़ा, मेरी आवाज़ कांपने लगी थी, नहीं चाची......ब ब ब बीच में मत लगाना, आप तो साफ़ कर लो.....आपकी खुजाल मिट जाएगी कोमल भाभी की पहले से ही फटी हुयी ऑंखें अब तो बस बाहर ही निकाल आई. उनका पूरा मुंह लाल सुर्ख हो गया........एक भरपूर नज़र उन्होंने बाबुराव पर डाली और अचानक सकपका कर इधर उधर देखने लगी.

मेरे उप्पर, दीदी. में नीचे लेटता हूँ.. ऐसा कह'कर मेने उस'का हाथ पकड़'कर उसे ज़बरदस्ती उठाया और में पीठ'पर नीचे लेट गया. ज़रा मेरी कमर पर धीरे से सहला देंगे. खुजली सी लग रही है. लगता है रात किसी चीज़ ने काट लिया रूपाली ने कहा पर भूषण वैसे ही खड़ा रहा.

ठीक है रूपाली ने कहा हां मैं तुझे कह रही हूँ के तू अपने जिस्म का सौदा कर. इसे अपने पास रखके आज तक कर भी क्या लिया तूने. एक पुरानी झोपड़ी में रह रही है. 17-18 साल के एक लड़के से अपने जिस्म की आग को ठंडा कर रही है ना अपने जिस्म पे ढंग के कपड़े डाल सकी ना अपनी जवान होती बेटी के. चूत में लंड बड़ा ‘पगली है तू… अरे सेक्स करना तब होता है जब लंड को चूत के भीतर घुसा के चुदाई की जाय. मैं तुझे चोदुंगा थोड़े ही. तुझे तो बस अपनी चूत से मेरे लंड को रगड़ रगड़ के पानी छुटा देना है बस!’

पंजाबी सेक्सी फिल्म फुल एचडी

  1. कितनी भोली थी बेचारी… मासूमियत से भरी हुई… मुझसे वादे मांग रही थी, कसमें खिला रही थी. उसे क्या पता था कि जब मैं उसकी दोनों चूचियाँ पकड़ के उसकी चूत चाटूंगा, चूत के दाने को चुभलाऊंगा तो वो खुद लंड मांगेगी, चोद डालने की विनती करेगी.
  2. इस तरह कोई दो मिनट तक मैंने उसकी रूपराशि को निहारा. ऐसी मदमाती मस्त जवानी को चोदने के ख्याल से ही मेरे लंड में तनाव भरने लगा. वो मेरी ओर रह रह कर देखती और फिर नज़रें झुका लेती. शायद मेरे इस तरह नज़र गड़ा कर देखने से वो अन इजी फील करने लगी थी. वजन कमी करण्यासाठी डाएट
  3. चाची ने कोमल भाभी से पूछा, वो जैन साहब की बहु......क्या नाम है उसका........हाँ सुषमा.......सच में उसका अपने देवर से चक्कर है क्या ? चाची मेरे बेड के पास ही झाड़ू निकलने लगी, वो झुकी हुयी थी और उनका विशाल गोल पिछवाडा मेरी नज़रों के सामने था.
  4. चूत में लंड बड़ा...प्रेम कोमल के पीछे गया और उसने कोमल के पिछवाड़े को पकड़कर उसके इंतज़ार करते हुए छेद पर एक नज़र डाली। वो इस दृश्य का भरपूर आनंद उठाना चाहता था। कोमल भाभी पलटी और उनके चेहरे पर आश्चर्य के भाव आ गए........वो बोली, आ आ आप का मतलब है चाची की मैं रुकू.......????
  5. वो बोली, अरे हाँ वो.......अब तो ठीक है......कभी कभी हो जाती है........तो क्या करू ...? ट्यूब लगा लूँ ना........ अचानक चाची ने हिलाना बंद कर दिया और बोली, क्यों रे हरामी........चोट वोट कुछ नहीं लगी है......हिरसू......साले.....बेशरम मैं तो सोच रही थी की लल्ला को कांच चुभा होगा और तू हरामी मज़े ले रहा है.......

रंगपंचमी माहिती मराठी

अब मैं उसे चूमता हुआ नीचे की तरफ बढ़ चला उसका समतल चिकना पेट, गहरी नाभि कूप चूमने के बाद मैं उसके पैरों के पास बैठ गया और और दोनों पैर उठा कर तलवे चूमने चाटने लगा, पैरों की उंगलियाँ अपने मुंह में भर के चूसने लगा.

मैंने भी चूतिये जैसे हंसने लगा मगर मेरी नज़रे अब भी उनकी साड़ी के बीच झांकी उनकी मुनिया पर थी..........चाची ने मेरी नज़रो का पीछा किया और जैसे से निचे देखा उई माँ बोल कर साड़ी से अपनी मुनिया को ढक लीया...... क्या? रूपाली कुच्छ ऐसे बोली के उसकी हैरानी उसकी आवाज़ में छलक उठी तुम उसे ट्यूबिवेल वाले कमरे में नही मिलते थे?

चूत में लंड बड़ा,‘हाय अंकल.. मैं फिर से आ गई. कितना अच्छा लग रहा है आपका भी साथ साथ झड़ना… ऐसे ही झड़ते रहो मेरी चूत में… अभी लंड बाहर मत निकालना. लंड का पानी अच्छे से मेरे गर्भाशय में जाने दो, मेरी गोद हरी हो जायेगी.’ उसने कहा.

मालकिन ज़्यादा तो कुच्छ नही है मुझ ग़रीब के घर में. जो है बस यही है उसने चारपाई पर खाना परोसते हुए रूपाली से कहा

थोड़ा झुक जाओ पुरुषोत्तम ने कहा और उसकी कमर पे हल्का सा दबाव डाला. रूपाली ने झुकने से इनकार किया तो वो फिर उसके कान में बोला.आदमी आदमी का बीएफ

चाची मुझे घुर रही थी और मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करू ? फिर वो बोली, देख लल्ला....मैं तुझ से बड़ी हु....तेरी चाची हूँ, ये गन्दा गन्दा मत सोचा कर, मैं तो समझ भी जाउंगी कि तू अभी बच्चा है मगर दुनिया क्या कहेगी..... चाची ने झुके झुके ही मुझे देखा और टेडी मुसकन मारकर बोली, लल्ला.......दबा दबा कर पानी ढंग से नहीं निकलता रे........अच्छे से दबा कर निचोड़ना भी पड़ता है........अगर अच्छे से दबा कर नहीं निचोड़ा तो मज़ा नहीं आता........कपडे गिले गिले ही रह जाते है...

चाची की हाय अब कम हो गयी थी और वो भी जोर जोर से मज़े के सिसकियाँ लेने लगी.....अब तो चाची भी मेरे हर धक्के का जवाब पलटे में धक्का मार कर दे रही थी.....उनके मुंह पीछे मुडा और हमारी ऑंखें मिल गयी.....

तुम मेरा लण्ड अच्छे से चूसो और मैं वही करूंगा जो तुम चाहोगी… सुनील के चेहरे पर कोमल की चूत का रस चिपका हुआ था। उसे जबरन थोड़ा रस पीना पड़ा। उसे इस रस का स्वाद अच्छा भी लगा।,चूत में लंड बड़ा यही सोचते हुए मैंने लंड से उसकी चूत पर तीन चार बार चपत लगाईं और उसके दोनों पैर ऊपर उठा कर घुटने उसके पेट की तरफ मोड़ दिए और एक तकिया उसकी कमर के नीचे लगा दिया जिससे उसकी चूत और अच्छे से मेरे सामने उभर गई.

News