महाराष्ट्रीयन सेक्सी पिक्चर

सास दामाद का सेक्स

सास दामाद का सेक्स, क्यूंकी सुनेल बहुत दूर रहा ..ये बंधन कभी ज़ोर नही पकड़ पाया......आज वो बहुत करीब था..इसलिए उसकी मानसिक तरंगे सुनील तक पहुँच रही थी..... लेकिन मुझे समर के साथ बहुत मज़ा आया उसका स्टाइल तेरे डॅड के स्टाइल से बहुत अलग है. फिर ये सिलसिला चल पड़ा और महीने में एक बार हम स्वापिंग करने लगे.

विजय ...रूबी से ...बेटी तुम्हारा भाई इतने समय तक ...बस जिंदगी से लड़ता ही आ रहा है ..अब उसे फ्री कर दो ......कुछ तो सॅकन मिले उसे ...मैं हूँ ना तुम लोगो को घुमाने फिराने के लिए ..... सोनल.....आज कितना खुशी का दिन है.......हर बार पता नही कुछ कुछ हो जाता था...पूरा साल ऐसे ही गुजरा.....चियर्स टू और गुड टाइम्स

अभी दोनो कार में बैठे नही थे कि एक मोटरसाइकल वहाँ आ के रुकी और उसपे बैठे आदमी ने जब अपनी हेल्मेट उतारी तो उसकी नज़र सुनेल पे पड़ी जो कार में बैठने जा रहा था...उस आदमी की आँखें फैलती चली गयी ...उसने फिर से हेल्मेट पहन लिया ... सास दामाद का सेक्स उसके जिस्म का रोया रोया प्रेम जवाला में जलने लग गया ---- चूत में गीला पन बढ़ने लग गया - सांसो की महक कामुक होने लगी.

हरिवंश राय बच्चन की मृत्यु कब हुई

  1. दीदी बोलीं-नहीं… अब नहीं, अब मैं एक नये तरीके से अपनी चूत खुलवाऊूँगी… यह कहकर दीदी घोड़ी बन गईं… फिर दीदी ने अपना पेट आगे झुकाते हुये गान्ड को बाहर की तरफ निकाला। ऐसा करने से उनकी चूत एकदम ऊपर की तरफ हो गई।
  2. कहने के बाद तो रूबी सोनल को खींचती हुई ले गयी…..सवी का चेहरा जो अभी कुछ देर खुशी से दमका था रूबी को चहकता हुआ देख फिर डूब सा गया…वो हसरत भरी नज़रों से सुनील को देखने लगी…जिसने उसकी कोई परवाह ना करी और सुमन के कमरे में चला गया. कोलंबसने नव्या खंडाचा शोध कधी लावला
  3. ‘हां बेटे से नही पर एक दोस्त से तो कर सकती है – अब बेटा ही वो दोस्त हो तो क्या प्राब्लम – और वो भी तो जुड़ा हुआ है – उसे भी तो हक़ है सच जानने का’ एक महीना इसी तरहा गुजर गया...जब एक दिन सुनेल के दोस्तों ने मिनी की सहेलियों से बात करी और दोनो को मिलने का प्लान बनाया....जगह चुनी गयी जुहू बीच ....
  4. सास दामाद का सेक्स...मिनी...यूँ यकायक अगर यहाँ से गायब हुई तो सुनील....वो तो पागलों की तरहा ढूँडने लग जाएगा....ये सोचते हुए...पर माँ... चारों तरफ सुनसान …..घुप अंधेरा……बस दूर दूर कहीं कोई लाइट जलती हुई दिख रही थी…लहरें किनारे तक आ के टकराती और लॉट जाती.
  5. नाश्ते के बाद सब अलग हो गये...विजय और सुनील होटेल वालों के साथ लग गये शाम का अरेंज्मेंट्स देखने और प्लॅनिंग करने... 'अहह' सुनील के गले से गुर्राहट निकली जब वो सोनल के मुँह में झड़ने लगा और रूबी को झटका लगा वो अपने ख़यालों की दुनिया से वापस आई और हाँफती हुई सी अपने कमरे की तरफ भागी जहाँ उसे एक और झटका लगा ...

लहान मुलींची झवाझवी

रमण दिलो जान से वहाँ बिज़ी हो गया - गाँव की आबादी कोई 30,000 के करीब थी ....... रमण के आते ही मरीज आने शुरू हो गये ..... और रमण उनके इलाज़ में जुट गया.

कमान की तरहा उसका जिस्म उठ गया और वो राजेश के मुँह पे झड़ने लगी............राजेश उसके प्रेम रस को पीने लगा..... राजेश धीरे धीरे कवि की पीठ पे चुंबन अंकित करने लगा ......और कवि हर चुंबन के साथ सिसक पड़ती ...............बहुत ही धीरे धीरे वो कवि की पीठ को चूमते हुए नीचे की तरफ बढ़ रहा था ....और कवि उत्तेजना में जलती हुई सिसकियाँ भर रही थी और अपनी एडियों को रगड़ रही थी ...........

सास दामाद का सेक्स,सुनील ने फिर एक झटका मार अपना आधा लंड अंदर घुसा डाला. और दर्द के मारे सोनल ने सूमी के होंठों में दाँत गढ़ा दिए. अहह ……आाआआईयईईईईईईईईईईईईई सोनल और सूमी की चीखें एक दूसरे में घुलती हुई उनके मुँह में ही दबी रह गयी.

स्नॅक्स आ चुके थे ........सोनल ने सुनील को पीने के लिए हरी झंडी दे दी थी ....पर एक कंडीशन के साथ कि वो साथ में कुछ ख़ाता रहेगा और धीरे धीरे पिएगा .......

राजेश जानता तो था कि सुनील की सुमन से शादी हो चुकी है ..पर यूँ अपने सामने निक नेम से बुलाना उसे कुछ अजीब लगा .......હિન્દી ફિલ્મ હિન્દી ફિલ્મ

'प्यार में ही तो देखा जाता है...अब बातें नही ....डालो मेरे अंदर अपना लंड......चोदो मुझे आज खूब अच्छी तरहा...' ‘तुझे छोड़ ही तो नही सकती’ सोनल ने पलटी मारी और सुनील के उपर आ गयी. उसके मम्मे सुनील की छाती में धँस गये और सोनल के मुँह से एक अहह निकल पड़ी.

कल जिस तरहा सुनील ने सूमी को नये नये आनंद का अनुभव करवाया था आज सूमी ने ठान लिया था कि वो सुनील को नये अनुभव करवाएगी. सूमी ने सुनील की पॅंट और अंडरवेर एक दम उतार दिया और प्यार से उसके खड़े लंड को देखने लगी जिसने कल उसकी हालत बुरी कर दी थी. आज भी कुछ ऐसा ही होने वाला था पर सूमी को यही चाहिए था.

सोनल…फिर भाभी….ये नही चलेगा …..अगर नाम नही लेना चाहती तो दीदी बोल सकती हो…पर नो भाभी बिज़्नेस …ऑक्वर्ड लगता है यार.,सास दामाद का सेक्स सूमी ने सोनल की चूत में सीधा दो उंगलियाँ घुसा डाली .........दर्द के मारे सोनल ने सूमी के होंठ काट लिए ...........

News