सेक्सी पिक्चर वीडियो ब्लू फिल्म

मैं तो सो रही थी मुझे बिल्ली ने जगाया

मैं तो सो रही थी मुझे बिल्ली ने जगाया, मैंने मन ही मन सोचा, बुढऊ का मन कुछ और कह रहा है और लंड कुछ और...अब देखना है की मन और लंड की लडाई में कोन जीतता है. वो सीधे टंकी के पास गए और वो ऊपर से नलका खोलकर नीचे बैठकर ठन्डे पानी से नहाने लगे, औरत- चुप कर बेशरम कलमूहि मेरे बेटे पे डोरे डालती है तुझे काम पे रखना तेरी ग़रीबी पे तरस ख़ाके रखा मेरी मजबूरी थी मेरी अकल मारी गयी थी, तुझे तो मारूँगी मे रंडी कही की..

ऋतू ने अंकल के पास आकर कहा ये क्या अंकल....आप यही बैठे हैं...आपने कहा था की मुझे प्रोजेक्ट को पूरा करने में हेल्प करेंगे....चलो मेरे साथ ऊपर... अंकल ने आंटी और मम्मी की तरफ देखा और बोले हाँ हाँ....चलो...मैं तुम्हारा प्रोजेक्ट पूरा करवाता हूँ..... और वो ऋतू के साथ उठ खड़े हुए.. अह्ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हहह्ह्ह्ह ओह्ह्ह्हह्ह....ऋतू......माय डार्लिंग......अह्ह्हह्ह ऊफफ्फ्फ्फ़....ओग्ग्ग्ग...........

अयान : ऋतू दीदी...आप मुझे यहाँ क्यों ले आई..यहाँ तो सुरभि सो रही है...अगर वो उठ गयी तो ग़जब हो जाएगा... मैं तो सो रही थी मुझे बिल्ली ने जगाया आशा:जगदीश राय को चूमते हुए।आप भी कमाल ले हो पापा।आप ले साथ मुझे बहुत मज़ा आया।आपकी और भी कोई इच्छा हो तो मैं पूरी करने की कोशिश करुँगी।

सुहागरात सेक्सी पिक्चर

  1. मैं उनके मोटे चुचे पर अपना सर रखे हांफ रहा था...मेरा लंड उनकी चूत में पड़ा हुआ वहां के हसीं नजारों की फोटो ले रहा था.
  2. हां ऐसे हीईईईईई आआआआआआआह्ह काआआआआतूऊओ मेरे निप्पल को दांतों सीईईईईईए आआआआअह्ह्ह्ह दबाओ इन्हें अपने हाथों सीईईईईई.....आआआआआआआआह्ह्ह्ह चबा दालूऊऊऊऊ इन्हीईईईईईए मत तडपाओ....ना पपाआआआ प्लीस ....... తెలుగు ఎక్స్ ఎక్స్ వీడియో
  3. KS ne foran usey lita diya aur uske uper chad ke uske kaan, aankh, gaal aur hontho ko chumne laga, divya bhi uska sath de rahi thi. हाँ मैं जानता हूँ की मैं क्या कह रहा हूँ मैंने कहा सेक्स एक बड़ी ही मजेदार चीज है, अगर आपका कोई इमोशन इसके साथ जुड़ा ना हो तो इसमें सबसे ज्यादा मजा आता है, बहुत बढ़िया है ये, एक अच्छी एक्सर्साईज़ है ये तो
  4. मैं तो सो रही थी मुझे बिल्ली ने जगाया...अपर्णा का बदन काफी भरा पूरा था किसी मल्लू आक्ट्रेस की शकीला को बिता लो और इसके उठा लो रंग रूप सब वैसा…और बेटा बहुत दुख हुआ सुनकर तेरी मां के साथ?…..देवश ने आगे कुछ कहने नहीं दिया ठीक है मैं इसे आज़ादी देती हूँ ये कहते हुए भाभी ने मेरा अंडरवेर नीचे खैंच दिया. अंडरवेर से आज़ाद होते ही मेरा 10 इंच लंबा और 5 इंच मोटा लंड किसी काले कोब्रा की तरह फंफना कर खड़ा हो गया. भाभी के तो होश ही उड़ गये. चेहरे की हँसी एकदम गायब हो गयी. उनकी आँखें फटी की फटी रह गयी. मैने पूछा,
  5. हां! तो मैने कब कहा की तुम्हारे गुप्तांगो पर मेरा हक़ है ऋषभ अपने होंठो को अपनी मा के कान के बेहद समीप पहुँचाते हुवे बोला. उन्होंने कहा..कोन कहता है..तुम बच्ची हो...लगती तो पूरी जवान हो...मैं चेक करता हूँ...तुम दरवाजा बंद कर आओ..नहीं तो कोई आ जाएगा..

चोदा चोदी करने वाला

आख़िरकार खुशी जिंदगी ऐसे ही चलने लगी….एक दिन फोन बजा त्रृिंगगग त्रिंगगग…फोन को उठाते ही एक जानी पहचानी आवाज़ कानों में पड़ी

देवश : असल में ये खूनी ने पहना था जिसकी केस मैं हैंडिल कर रहा हूँ ये सबूत है मेरे पास (शीतल बारे ध्या न्स सुनती रही) क्या सुनू मैं !! हां हां बोलो ? तुम्हे कितना मना किया था लेकिन तुमने सूखा ही घुसेड दिया. शायद तुम्हे अपनी बीवी की तक़लीफ़ का अंदाज़ा नही विजय, मैं बता नही सकती कि मेरी गान्ड में इस वक़्त कितना दर्द हो रहा है वह दोबारा तैश में चिल्लाई.

मैं तो सो रही थी मुझे बिल्ली ने जगाया,फ्फूककक थींम फुक्कक तेमम्म अल्ल्ल बस्टर्द्ड़स….रोज़ इधर से उधर तहेलते हुए लंगड़ाके मेरी ओर देख रही थी मैं एकदम गुमसूँ चुपचाप मुँह पे हाथ रखकर गहरी सोच में डूबा हुआ था

हाँ ठीक है...तुम जाकर उनसे कह दो..अगर वो मान जाते हैं तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है.. रेहान अपनी ख़ुशी को काबू में करते हुए बोला.

मैंने अपनी जीभ को पेना किया और उसे घुसा दिया सुरभि की गांड में....मेरी नाक उसकी चूत के बिलकुल ऊपर थी ...जिसमे से निकलता हुआ रसीला पानी उसे भिगो रहा था...और नीचे आते हुए मेरे होंठों से होता हुआ उसकी गांड को और भी चिकना बना रहा था,हैदराबादी चुदाई

उसकी चूत से निकलता हुआ रस पापा और हरीश अंकल के चेहरे और पेट को भिगो रहा था....और अंत में जब उसकी टंकी खाली हो गयी तो वो बेजान पत्ते जैसी लहरा कर अपने ही बनाये हुए कीचड में गिर पड़ी और गहरी साँसे लेने लगी. देवेश मसूड़े पे एक बार फिर चाइ लगते ही गान्ड फाड़ चिल्लाया, कंचन हंस पड़ी उसे भी सुस्त चूतिया देवेश के हैरान होने पे ख़ुसी हुई.

विशाल और सन्नी की पिचकारियाँ भी उसके कानो में पड़ने लगी, उन्होंने भी उसके चेहरे और छाती को पूरी तरह से भिगो डाला....

मम्मी के इस डोमीनेटिंग रवय्ये को देखकर तो मुझे भी एक बार डर सा लगने लगा...मैं सोचने लगा की अगर कभी मम्मी का मूड हुआ तो शायद मुझे और पापा को भी वो इसी तरह से अपने सामने पालतू कुत्ते की तरह हमारी ऐसी तेसी कर देगी...ये सोचते ही मेरे बदन में सिहरन सो दौड़ गयी...,मैं तो सो रही थी मुझे बिल्ली ने जगाया साशा :‘बहुत अच्छा बहुत ही प्यारा प्यारा. जब आप मेरी चूत चाट रहे थे तो जैसे मेरे बॉडी में फूल ही फूल खिल गये थे, सारे बदन में रंगीन फुलझड़ियाँ सी झर रहीं थीं. मैंने सोचा भी नहीं था कि ये सब इतना मस्त मस्त लगेगा!’ वो बोली.

News