సన్నీ లియోన్ సెక్స్ వీడియోస్ కం

गणपती बाप्पाची आरती गणपती बाप्पाची आरती

गणपती बाप्पाची आरती गणपती बाप्पाची आरती, वहाँ उसने हर्षवर्धन को सारी बात सच सच बता दी कि वो एक विधवा है और उसका एक बेटा भी है. हर्ष नाराज़ होने के बजाए, रत्ना की ईमानदारी और हिम्मत देख कर बहुत खुश हुआ और उसे और उसके बेटे को अपनाने को तय्यार हो गया. हर्ष ने उस लड़के का नाम करण रखा और उसे अपना नाम भी दिया. दीदी बोली तू कम था क्या, क्या गांड मरायी सर से? सच बता. दुखा क्या? तेरी गांड में जब वो मूसल घुस रहा था तो मुझे लगा कि अब फ़टी तेरी. पर अनिल, देख कर बहुत मजा आया, गांड में लंड घुसने का नजारा अलग ही होता है, तुझे मजा आया क्या? वैसे हालत खराब थी तेरी

जब कालेज पास आने लगा तो उसने सजल से पूछा- अगर तुम चाहो तो मेरे साथ होटल में रुक कर सुबह जा सकते हो। मैं तुम्हें पहली क्लास के पहले पहुंचा दूंगी… सजल अपनी मम्मी से नाराज़ अवश्य था पर वह उसके अपमान में मनीषा का साथ देने को तैयार नहीं था। उसने मनीषा को दूर धकेलने की कोशिश की पर इतने में ही उसकी मम्मी की एक हरकत पर वह ठगा सा रह गया।

मेरा क्या दिमाग खराब हुआ है? पर दीदी अब मैडम और सर मिलकर हमको ... याने आज जैसे रोज ... याने चोदेंगे क्या? मैंने पूछा. गणपती बाप्पाची आरती गणपती बाप्पाची आरती इतना कह कर मैंने दोनों हाथों से नीलम रानी के उरोज पकड़ लिये और उन्हें भींचे भींचे ही धक्के पे धक्का लगाने लगा।

फेसबुक चालू करें वीडियो डाउनलोड

  1. निशा करण की बातो से शरमा भी रही थी और गरम भी हो रही थी. चलो मैं तुम्हारे लिए मिल्क शेक बना देती हू... कहते वो बिस्तर से उठ गयी और पास मे पड़ी अपनी हाफ नाइटी को बिना ब्रा या पैंटी को अपने जिस्म पर डाल के नीचे किचन की तरफ चली गयी.
  2. मैंने कुछ देर तक सोचा और पायल को कहा- तुम ऐसा करो कि ये सामने के बाथरूम में घुस जाओ और जब तक मैं ना बोलूं बाहर नहीं आना, वरना आज ही काम खराब हो जायेगा… xxx सुहागरात वीडियो
  3. जैसे ही उसे लगता कि मैं झड़ने वाला हो रहा हूँ, वो एकदम लण्ड पर से होंठों का दबाब कम कर लेती और थोड़ी सी जीभ भी छेद से बाहर कर लेती। करण को यह सब देख कर लग रहा था कि अब उसको हार्ट अटॅक ज़रूर आएगा. वो सोने की चैन निशा के कमर पर इतनी सेक्सी लग रही थी कि मत पूछो.
  4. गणपती बाप्पाची आरती गणपती बाप्पाची आरती...कोमल बाहर जाने के ख्याल से बेहद खुश थी, चाहे एक रात के लिये ही सही। और उसे सजल के साथ भी कुछ समय ज्यादा मिलेगा। इस बार वो उससे ठीक से मिल ही न पाई थी। अर्जुन के हाथो मे त्रिशूल था. इन दोनो के अचानक आ जाने से पूरी गुफा मे खलबली मच गयी. उम्मीद छोड़ चुकी रत्ना और काजल ने अपना सर उठा के देखा तो पाया कि उसके बहादुर भाई हाथ मे त्रिशूल लिए त्रिकाल को ललकार रहे है.
  5. तभी निशा नहा कर बाहर आई. उसने सिर्फ़ सफेद तौलिया लपेटा था जो उसकी मोटी मोटी चुचियो को ढके हुए था पर उसकी मखमली सुडोल जाँघो की नुमाइश कर रहा था. करण ने सोचा कि इसने नाइटी क्यू नही पहनी, पर वो तौलिए से बाहर निशा के कंधो पर उसके पिंक ब्रा के स्ट्रॅप्स देख सकता था. मैडम भोंपू ...? मैंने कहा तो मैडम मेरा कान पकड़कर बोलीं अब नादान ना बन, मैं जानता हूं कि तुम शरारती लड़के स्कूल की लेडी टीचर्स के बारे में क्या क्या कहते हो, चलो अब, बजाओ भोंपू

लुगाई की चूत दिखाओ

कुछ देर इसी तरह मालिश करने के बाद मैंने आहिस्ता से हाथ घुमाते हुये अम्मी की गाण्ड के सुराख की तरफ अपने हाथ का अंगूठा ले गया और वहीं रोक लिया और दूसरे हाथ से मालिश करने लगा। फिर मैंने अपने हाथ के अंगूठे को आहिस्ता से अम्मी के गाण्ड के सुराख पे लगा दिया और वहीं घुमाने लगा।

सर ... बहुत अच्छा लगा सर ... मलाई जैसा .... और मुंह में लेकर भी बहुत अच्छा लगता है सर, इतना बड़ा और मांसल है आपका ल .... मेरा मतलब है ये आपका ... याने सर... लीना दीदी का मुंह शरम से लाल हो गया था पर वैसे वह खुश लग रही थी. दीदी तो अब मछली जैसी तड़प रही थी. उसने झट से टांगें फ़ैलायीं और मेरा लंड पकड़कर बोली अनिल, जल्दी कर ना ... हा ऽ य .. मैडम रहा नहीं जाता .... उसकी नजर सर के फ़िर से खड़े लंड पर टिकी थी.

गणपती बाप्पाची आरती गणपती बाप्पाची आरती,दीदी ने कहा- जान, आप मुझे जहाँ भी रखना चाहो मैं रहूंगी और किसी को भी अपने बदन को हाथ नहीं लगाने दूँगी लेकिन अपने घर वालों को नहीं छोड़ सकती…

चूत से मुंह लगाते ही मेरा नथुने उसकी बुर की खास गंध से भर गये। खुशबू पहचानते ही लंड हुमक के अकड़ गया और तुनक तुनक के अपनी प्यारी चूत को सलामी देने लगा।

मैं उसके निप्पल उमेठता हुआ बोला- अरे रानी… बड़े मज़े से घुसेगा.. औरत की चूत जो है हाथी का लण्ड भी लील सकती है… यह तो इंसान का है.. अच्छा यह तो बता, लण्ड चूसने में मज़ा आया?लड़की को कैसे चुप

अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने अपने एक हाथ से लण्ड को अम्मी की फुद्दी पे सेट किया और आराम से जोर लगाने लगा। अम्मी की फुद्दी क्योंकि पहले ही काफी गीली थी और ऊपर से तेल भी लगा हुआ था जिसकी वजह से मेरा लण्ड अम्मी की फुद्दी में आराम से जाने लगा। बाहर आ कर सर ने दरवाजा बाहर से बंद कर दिया. क्या हो रहा था ये? बोलो? बदमाशी कर रहे थे ना तुम दोनों? सर हम पर चिल्लाये.

सजल ने अपने हाथ बढ़ाकर अपनी मम्मी के फुदकते हुए मम्मों को पकड़ लिया। कोमल की गर्म चूत अब उसके गर्माये हुए लण्ड पर नाच रही थी। उसने अपने पापा की ओर देखा तो वो इस नज़ारे से बहुत मज़ा लेते हुए लगे।

अभी मैं जाकर रूम में बैठा ही था कि पायल भागती हुई मेरे रूम में आ गई और बोली- भाई खाना लायें आपके लिए?,गणपती बाप्पाची आरती गणपती बाप्पाची आरती इतना सुनते ही मा ने आगे बढ़ के मेरे चेहरे को अपने हाथो में थाम लिया और हस्ते हुए बोली वाह बेटा अंगुली पकर के पूरा हाथ पकरने की सोच रहे हो क्या

News