తెలుగులో ఫుల్ సెక్స్

शिवप्रताप दिन माहिती

शिवप्रताप दिन माहिती, मगर इसके साथ ही अम्मी की आँखों में मुझे एक चीज़ भी दिखाई दी जो ज़ाकिया की चुदाई के बाद मैंने अपनी बहन संध्या की आँखों में भी देख चुका और वो चीज़ थी एक गर्म औरत की जिन्सी प्यास की चमक | ओह तुम ने अपनी जिन्सी हवस पूरी करते करते मेरी मासूम सी तंग चूत को विनोद के मोटे अनकट लंड से फडवा कर रख दिया है यासिर अपने शौहर को गरम जोशी से मेरी गुदाज रानों पर अपनी ज़ुबान चलाते देख कर में सिसकार उठी.

काजल- उफ्फ.. क्या बड़ा लंड है तेरा.. मज़ा आ गया.. अब तो बता दे.. तू है कौन.. और तुझे कैसे पता है कि मैं इतनी प्यासी हूँ.. जो मुझे चोदने चला आया। विनोद की बात पर अमल करते हुए में ज्यों ही बिस्तर पर घोड़ी बन कर झुकी. तो विनोद ने एक लम्हा ज़ाया किए बगैर अपना लंड एक बार फिर मेरी गरम प्यासी चूत में डाल दिया.

यासिर के आते ही मैने किचन में जा कर खाना गरम किया और फिर हम दोनो मियाँ बीवी इकट्ठे एक साथ लंच करने लगे. शिवप्रताप दिन माहिती अपनी अम्मी की बात सुनते ही मेरे लौड़े का बंद टूट गया और मेरे लौड़े से मेरा गरम पानी निकल कर अम्मी के मुम्मों के साथ साथ उन के मुँह में भी गिरने लगा |

मोबाइल नंबर से आधार कार्ड निकालना

  1. लंड एक दम से झटके मारने लगता है उसका चेहरा एक दम से लाल हो जाता है, शालिनी उसके मोटे लंड को पकड़ कर सहलाते
  2. विनोद की चुदाई की वजह से मेरी चूत पीछे से चौड़ी हो गई थी. जिस वजह से विनोद का मोटा,सख़्त,जवान लंबा लौडा अब मेरी चूत की दीवारों को आसानी से छेड़ता हुआ मेरी फुद्दि के अंदर बाहर होने लगा था. 1 फुट में कितना इंच होता है
  3. डिंपल- एक दम से बैठते हुए, उसको घूर कर देखती हुई तू पागल हो गया है, तूने सोच भी कैसे लिया कि मैं तेरे सामने तो विनोद की बात को सुन कर शरम और खुशी के मिले जुले अहसास से मेरे गाल सुर्ख हो गये. और अपनी जिन्सी हवस के हाथों मजबूर हो कर मैने अपने शौहर यासिर के सामने ही विनोद के गले में अपनी बाहें डाल दीं.
  4. शिवप्रताप दिन माहिती...मैं तो अम्मी से की जानी वाली इस हरकत के ज्वाब में अम्मी की गालियों और थप्पड़ों की उम्मीद लगाये बैठा था | हाईईईई दूध की तरह यह सफैद बाज़ू, बगैर किसी दाग के सॉफ सुथरा ऐसा जिस्म, और ऊपर से रेशम की तरह नरम स्किन उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ क्या ग़ज़ब का खूबसूरत जिस्म है मेरी बहन का मैं अपने सामने खड़ी अपनी बहन की जवानी को देखते हुए यह सब सोच रहा था |
  5. जेम्स- नहीं रानी.. मुझे कोई धोखा नहीं हुआ.. कुछ दिन पहले मैंने इन दोनों के साथ उस जालिम को देखा है। मैं उसकी सूरत कभी नहीं भूल सकता तुम मानो या ना मानो.. मगर इन दोनों का उसके साथ कोई ना कोई सम्बन्ध जरूर है.. जबकि मैं चारपाई पर लेटी हुई अपनी बहन की खुली टांगों के दरमियाँ लेट कर अपनी बहन की चूत को अपने मुँह और ज़ुबान से चाट रहा था और साथ ही साथ अपनी बहन की चूत से निकलने वाले गरम पानी को शरवत समझ कर पीने में मसरूफ़ था |

फ्लाइट एयर इंडिया tickets

प्रिया मेरी रानी… घबराना नहीं… थोड़ा सा दर्द तो होगा लेकिन मैं ख्याल रखूँगा… मैंने उसे समझाते हुए कहा।

विजय- अगर ऐसी ही बात है तो सिक्का क्यों.. हम ताश का गेम खेल कर तय करे लेंगे.. क्यों भाई क्या कहते हो.? हाआआआआआआआ आज इतने अरसे बाद अपने तने हुए लौड़े पर किसी औरत के नर्म नाजुक हाथ महसूस करते ही मेरे मुँह से भी सिसकी निकली और मेरा लौड़ा और सख्त हो गया |

शिवप्रताप दिन माहिती,चूत चटाई का यह तज़ुर्बा अम्मी के लिए बिल्कुल नया था इसलिए मेरी गरम ज़ुबान के चूत से टकराते ही अम्मी लज़्ज़त के मारे सिसकीयाँ लेने लगीं और बोलीं उफफफफफ्फ़ तुम्हारे मरहूम अब्बू ने अपनी पूरी शादीशुदा ज़िंदगी में मेरे साथ कभी यह काम नही किया, जो तुम मेरे साथ इस वक़्त कर रहे हो अफ़ताब |

जब रानी की चूत शांत हुई.. तब उसके दिमाग़ की बत्ती जली.. वो झट से बैठ गई और सवालिया नजरों से जय को देखने लगी कि ये क्या हुआह्ह..

इसके साथ ही मेरे लौड़े से गर्मी की एक लहर उठी जो मेरे सर में घुसकर मेरे दिमाग को क्लोज़ कर गई जिसकी वजह से मेरे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया |वीडियो और ऑडियो यूट्यूब से डाउनलोड

उई ईई ईईईईइ… कितना दर्द देगा ये तुम्हारा…प्रिया के चूत से निकलते हुए लंड ने चूत की दीवारों को रगड़ दिया था जिस वजह से प्रिया के मुँह से यह निकल पड़ा लेकिन उसने आधी बात ही कही। स्वीटी- अरे यार आज मैं अपने दूध दब्वाने के लिए तरस रही हू, प्लीज़ मान जा ना, मेरा गेट खुला देख कर भैया ज़रूर आकर मेरे दूध दबाएगे और यह भी हो सकता है कि मेरी चूत भी सहला दे सच जब मेरे भैया मेरी फूली हुई चूत को अपनी मुट्ठी मे भर कर मसल्ते है ना तो बहुत मज़ा आता है, अब जा ना दरवाजा और जगा दे अवी को

रह जाती है और फिर डिंपल अपनी आँखे खोल कर सोचने लगती है, यह अवी को आज हो क्या गया है, यह कैसी बहकी-बहकी

शालिनी- यही कि जब हम लोग डिंपल और स्वीटी के पीछे-पीछे चल रहे थे तो तुम दोनो मे से किसी एक के पिछवाड़े को,शिवप्रताप दिन माहिती रानी- चल हट बदमाश.. मैं क्यों पकडूँ इसको.. तू उसको पकड़ाना.. जिसको पसन्द करता है और मुझे उसका नाम भी नहीं बताता।

News