एचडी इंडियन सेक्स वीडियो

मां की चूत की चुदाई

मां की चूत की चुदाई, इरफ़ान ने उठकर नूरी को बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया और खुद उसके ऊपर चड़कर अपना लंड उसके मुंह में पेलकर उससे चूसवाने लगा .. ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

फिर क्या था ...गिरधर ने अपने हाथों से उसकी कमर को लपेटा और उसके दांये मुम्मे को मुंह में ठूसकर नीचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए .. किसी अच्छे मोटिवेटर की तरह पंडित जी ने उसे जैसे कोई चुनोती दी ...और रितु ने उनकी चुनोती को स्वीकार भी कर लिया और किसी खरगोश की तरह से उनकी गाजर को वो अपने पंजों में दबाकर अपने दांतों और जीभ से कुतरने लगी ...

रंभा को ये तो पता था कि समीर उसके करीब आने की कोशिश करेगा मगर यू मोहब्बत का इज़हार कर देगा ये उसने सोचा भी ना था & वो चौंक गयी & मुँह पे हाथ रख लिया. मां की चूत की चुदाई ऊउउईईईईईई माआआआआअ..!,रंभा चीखी & दोनो हाथ सर के पीछे ले जाके टेबल को पकड़ लिया.देवेन उसकी जाँघो को सहलाता,उसकी टाँगो को चूमता उसे चोद रहा था.रंभा टेबल को पकड़े अपनी कमर उचका रही थी.बस 3 दिनो की जुदाई का ये असर था!

सेक्सी मूवी वीडियो हद

  1. निर्मल भाभी : हा हा .ये तो आपने अच्छा सोचा ...वर्ना हम लोगों को तो आज तक यही लगता था की आप सिर्फ मंदिर के अन्दर ही रहा करते हैं ..बाहर जाने का आपका मन ही नहीं करता ..आ जाया कीजिये रोज शाम को पार्क में ..मैं भी आती हु ..
  2. संगीता उसकी बात समझ गयी ...कपडे उतारने का समय आ चुका था ..वो बड़े ही मादक तरीके से उठी और पंडित के लंड को अपनी गिरफ्त से निकाल कर उनके सामने खड़ी हो गयी .. कौन सा मोबाइल किस देश का है
  3. पंडित जी को अपने शरीर की प्रशंसा करते पाकर वो मन ही मन खुश हो गयी और उसने भी पंडित को अपनी छातियों से नवजात शिशु की तरह से चिपका कर उन्हें अपना स्तनपान करवाने लगी ..और पंडित जी और तेजी से उसकी चूत का मर्दन अपने लिंग से करने लगे .. सच तो ये था कि रंभा लनोव से डेवाले जा रही थी यहा कभी ना वापस लौटने के लिए.उसने नज़र घुमा के नीचे देखा,इस शहर मे उसे हमेशा ही घुटन हुई थी & यहा उसे वो भी नही मिलने वाला था जिसकी उसे तमन्ना थी.अपने सारे सपने वो डेवाले मे पूरे करके ही दम लेगी,उसने तय कर लिया था.
  4. मां की चूत की चुदाई...और शीला को उसके मुंह पर बैठने को बोला ..अब शीला की रंगीन चूत बिलकुल माधवी के होंठो पर थी ...गिरधर के कहने पर माधवी ने उसे चूसना शुरू कर दिया . पंडित (मुस्कुराते हुए ) : तुम्हारी सेक्स शिक्षा शुरू करने से पहले तुम्हारे शरीर के सबसे गर्म भाग को शांत करना आवश्यक है ..और मुझे पता है ..वो येही है ..है ना ...
  5. उन्होंने एक बार फिर से दूसरी तरफ बैठे हुए जोड़े को देखा ..इतनी दूर से और अँधेरे की वजह से उनके चेहरे तो दिखाई नहीं दे रहे थे पर उनकी हरकतें साफ दिख रही थी . मुझे घुटन हो रही है..कब चालू होगी ये?,सोनिया बेचैन हो रही थी.विजयंत ने बाई बाँह के घेरे मे उसे थाम लिया.

कल्याण चार्ट राजधानी चार्ट मिक्स

तुम्हे मेरे साथ सोना होगा & फिर तुम्हारे सारे अकाउंट्स चालू कर दिए जाएँगे.,रंभा वैसे ही मूरत की तरह बैठी रही,..मैं आज रात पंचमहल मे ही रुकुंगा & रात को तुम्हारे घर आऊंगा,अगर तुम्हारा जवाब हां होगा तो ठीक है वरना..,हाथ मे थामे पेन को उसने रंभा के माथे से लेके दाए गाल पे फिराया.

ये ड्र.यूरी गोआ मे कब से हैं?,रंभा कार की खिड़की से बाहर के नज़ारे को देख रही थी.कार गोआ के भीड़-भाड़ वाले इलाक़े से बाहर निकल आई थी. नयी नौकरी की बधाई कबूल करो जानेमन!,उसने उसे गोद मे उठा लिया & अपने बेडरूम मे ला बिस्तर पे लिटा उसे बाहो मे भर उसके जिस्म के साथ खेलने लगा.

मां की चूत की चुदाई,गंद मे नाख़ून धंसते ही विजयंत के धक्के अपनेआप तेज़ हो गये & उसका बदन झटके खाने लगा.रंभा की चूत की मस्तानी हर्कतो से विवश हो वो भी झाड़ गया था.आँखे बंद किए सर उपर उठाए वो उसकी चूत की कसावट से बहाल हो आहे भर रहा था.

उसने भी मन ही मन निश्चय कर लिया की अब वो पंडितजी की सहायता से अपने बिखरे हुए दांपत्य जीवन को बटोरने का प्रयास करेगी ..

अगली सुबह पंडित हमेशा की तरह 4 बजे उठ गया और पूजा अर्चना करने के पश्चात मंदिर में आने वाले भक्तों को प्रसाद वितरण करने लगा ..महिषासुर मर्दिनी स्त्रोत

उसने फ़ोन रखा और झट से पंडित जी से आगे का प्रोग्राम पूछने के लिए फ़ोन लगाया ..पर उन्होंने उठाया ही नहीं ..उठाते भी कैसे, वो उसकी लड़की जो चोद रहे थे . पंडित : ये जो दाना होता है न ..इसका घर्षण करने से या मसलने से ही स्त्री को असली मजे आते हैं और उसके अन्दर का पानी बाहर निकलता है ...और ये घर्षण ऊँगली , मुंह और लंड तीनो से हो सकता है ...

''ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अब्बा ......उम्म्म्म्म्म्म ......क्या लंड है आपका ....उम्म्म्म्म्म ....और अन्दर डालो ....अह्ह्ह्ह्ह .....जोर से ....चोदो ...अपनी नूरी ....को ....अब्बू .....आज अपनी बेटी की चूत फाड़ कर रख दो ....अह्ह्ह्ह्ह्ह .....जोर से ...और जोर से ....''

कुच्छ बोल के नही आई.सब छ्चोड़ आई हूँ.,रंभा ने नज़रे झुका ली थी.उसकी आवाज़ की संजीदगी से देवेन के माथे पे शिकन पड़ गयी.उसने लंड बाहर खींचा & तकिये के सहारे लेटते हुए अपनी महबूबा को अपने आगोश मे खींच दोनो के जिस्मो के उपर चादर डाल ली.,मां की चूत की चुदाई ब्रिज ने सामने खड़े इंसान को देखा & सब समझ गया.ये किसी की साज़िश थी उसे फँसाने की & वो भी बेवकूफो की तरह इस जाल मे फँसता चला आया था.वो सामने खड़ा इंसान मेहरा था & उस पॅकेट मे कोई कपड़ा था जिसपे खून लगा था.ब्रिज उल्टे पाँव भागा.

News